17 जून 2011

मैं मौत से नहीं डरता

पिछले 1 साल से बाबा जी कह रहे थे कि - मुझे मौत आ नहीं सकती । बीमारी मुझे कोई मार नहीं सकती । मैं तो कैंसर का इलाज भी कर सकता हूँ ।
******
मौत तो बृह्मा विष्णु महेश को भी नहीं छोङती । इन्द्र आदि देवताओं को भी नहीं छोङती । बीमारी भी अच्छे अच्छे सिद्ध आयुर्वेदाचार्यों को भी लग जाती है । बस ये लोग आम की जगह खास होते हैं । अतः प्रभावित होने के चांस 30% ही होते हैं ।
कैंसर का इलाज सदियों पहले से ही आयुर्वेद में कई तरीकों से लिखा है । काली गाय का सुबह 4 बजे लगभग का पहला मूत्र पीना । गाय का पंचगव्य । और उसके गोबर कुंड में आधा घंटे ( सहन शक्ति के अनुसार ) तक बैठना । तथा पथ्य अनुसार पौष्टिक भोजन । कैंसर की प्रारम्भिक अवस्था में शुद्ध ताजा दही और लाल हरी मिर्च खाते रहना बेहद लाभदायक है । प्रत्येक रोग का इलाज संभव है । हाँ भोग का इलाज नहीं होता । परन्तु सत्यनाम भक्ति से कठिन भोग क्षीण होकर ना के बराबर रह जाता है ।
यहाँ शायद बाबा रामदेव जी अपने आपको भीष्म पितामह समझ रहे थे ।
*******
भीष्म पितामह को अमरता नहीं । इच्छा मृत्यु का वरदान प्राप्त था । वो अपनी इच्छानुसार मृत्यु समय का चयन

कर सकते थे । सिर्फ़ सन्तों योगियों की मृत्यु नहीं होती । भीष्म वसु ( एक प्रकार का देवता ) थे । और शाप के तहत आये थे । ऐसे ही कर्ण अभिमन्यु विदुर आदि बहुत लोग आये । ऊपर जो देवताओं की मृत्यु लिखी है । उन्हें समय पूरा  हो जाने पर 84 में गिरा दिया जाता है ।

उस दिन पुलिस पकडने आयी । तब बाबा जी सफ़ेद रंग का सलवार कमीज ( औरतों वाला ) पहन कर भागने लगे थे । लेकिन बाबा रामदेव अक्सर कहते थे कि - मैं मौत से नहीं डरता ।
*******
अब मैं क्या कहूँ भाई - प्रियतम को अपने रिझावे को । वो सुरमा लगाय रही खङी खङी । कालबली ने दयो तमाचो । सुरमादानी पङी रही । अच्छे अच्छे सूरमाओं की निकल जाती है । क्या ? आप समझ ही गये होंगे ।
2010 में तो लोग बाबा रामदेव को महात्मा गाँधी का अवतार या पुनर्जन्म बता रहे थे । ये भी सुनने में आया है कि आस्था चैनल बाबा रामदेव के जो गुप्त सहयोगी ( कुछ बडे लोग ) हैं । उनका निजी है । बाबा रामदेव की बहुत सी दवाईयो की फ़र्में हैं । यहाँ तक कि उनकी फ़र्म इंगलेंड में भी है । आजकल बाबा आने वाले दिनो में रूस जाना चाहते है ?
********
यार ! आप लोगों के पास हम बाबाओं की बुराई के अलावा और कोई काम नहीं है क्या ? अब कल को मैं भी जीवों को चेताने विदेश गया । तो मुझसे भी कहोगे । ब्लाग से लोगों को पटा पटाकर राजीव बाबा विदेश घूम रहा है ।
आस्था चैनल या कोई अन्य चैनल या कोई टाटा बिरला अम्बानी की कंपनियाँ इनके शेयर होते हैं । उन्हीं शेयर के % के आधार पर स्वामित्व बनता है । अब रामदेव जी या उनसे जुङे लोगों के पास जितने शेयर होंगे । उस हिसाब से उनका महत्व होगा ही । ये भी छोङो । तो बाबा रामदेव चैनल के टाइम स्लाट के बिग कस्टमर हैं । इस हिसाब से भी उनका महत्व बनता है - समरथ को नहिं दोष गुसाईं ।
क्या आपको मालूम है कि ZEE के सुभाष चन्द्रा जी ने अपने एस्सेल वर्ल्ड के बिग्यापन करने का खर्चा और 2 घंटे का चैनल खोलने के खर्च की जब तुलना की । तो उन्हें चैनल सस्ता लगा । और उन्होंने निजी चैनल खोल लिया - एस्सेल वर्ल्ड में रहूँगा मैं । घर नहीं जाऊँगा मैं । ये बङे लोगों के बङे खेल हैं भाई ।

********
जब अनशन चल रहा था । तब कोई कहता था कि बाबा रामदेव की स्थिति ठीक है । कोई कहता था कि बाबा " कोमा " में भी जा सकता है । आजकल.. बिल्कुल जी आजकल कभी खबर आती है कि बाबा रामदेव और बालकृष्ण जी डरे हुए हैं । वो दोनों कह रहे है कि उन दोनों की जान को खतरा है । और उनकी हत्या की प्लेनिंग की जा रही है ।
*********
सब बेकार की बातें ।
अब ये ही रामदेव जी 2010 में कहते थे कि - मैं मौत से नही डरता । लेकिन आज दोपहर में बाबा रामदेव का मैंने लाइव टेलिकास्ट बयान सुना । बाबा रामदेव कह रहा है - मैंने देश के हित के लिये अनशन तोडा । लेकिन अब मैं सत्याग्रह करुँगा । मैं भारत को आध्यात्मिक महाशक्ति बनाकर ही छोङूँगा ।
*********
इस प्रश्न का उत्तर मेरे दिमाग में अलग और विस्तार वाला आया है । अतः लगभग 20 दिन बाद ।

अब बाबा रामदेव के फ़िर से बयान आने शुरु हो गये हैं । लगता है - अब फ़िर रोज कोई न कोई भाषण रामदेव का आने लगेगा । बाबा रामदेव कब सुधरेगा ?
**********
मैंने कहा था । बाबा की अगली भूमिका बाबा टायप राजनीतिग्य की होगी । उसी के ट्रेलर आप देख रहें है । फ़िल्म का इंतजार करिये । ए बिग फ़्लाप मूवी ।
बाबा रामदेव ने गलती से फ़िर एक ऐसा बयान दे दिया । जिस पर उन पर केस दर्ज हो सकता है । सुनिये उन्होंने क्या कहा - मैं अब देश के नौजवानों को शास्त्र विध्या और शस्त्र विध्या साथ साथ दूँगा । मैं देश के नौजवानों की 1 फ़ौज तैयार करूँगा ।
***********
सारी दोस्तों ! मगर आम पब्लिक की एक खासियत होती है कि वह अक्सर भेङचाल का शिकार होती है । और ये बीमारी एक पापुलर फ़िल्मी गाने पर । फ़ैशन पर । हर बात पर लागू होती है । एक गाना हिट हो जाये । तो पूरे देश में वही सुनाई देता है । एक समय बाबा रामदेव की जय जयकार थी । तो आज धिक्कार है । आखिर रामदेव एक इंसान ही है । आत्मग्यानी नहीं ।
बाबा रामदेव के पास आज की तारीख में एक सशक्त तंत्र मौजूद है । और विश्व स्तर का व्यक्ति ऐसी पागलपन की

बात हरगिज नहीं करेगा कि उस पर केस ही हो जाये । गार्ड.. बाडी गार्ड के रूप में प्रायवेट तौर पर प्रशिक्षण गैरकानूनी नहीं हैं । वाकायदा इसके लिये कोचिंग सेंटर मौजूद हैं । और स्वस्थ तन्दुरस्त लङकियाँ तक इस क्षेत्र में कार्य कर रही हैं । अभी मान लो । बाबा कानून की किसी धारा का सहारा लेकर देशभक्ति के नाम पर या आत्मरक्षार्थ हेतु । या अपने आश्रम आदि की सुरक्षा हेतु लङकों को व्यक्तिगत तौर पर ऐसा प्रशिक्षण दिलवाये । तो इसमें क्या गैरकानूनी होगा ? फ़िर वकीलों की फ़ौज किसलिये है ?
दूसरे भारी थू थू के बाबजूद अब भी बाबा के समर्थक लाखों में है । इस बेरोजगार भारत में बाबा को सस्ते वेतन पर हजारों लोग आसानी से मिल जायेंगे । तथा ट्र्स्ट से जुङी एक यूनिट बनाकर इस तरह की व्यवस्था करना कोई बङी बात नहीं । अतः कुछ किन्तु परन्तु लगकर हर बात लीगल हो जाती है । एक कानून को दूसरे कानून से ही तोङा जाता है ।


अब यहाँ सवाल खडा होता है कि बाबा रामदेव को आजाद देश में निजी फ़ौज ( वो भी हथियार बन्द ) हजारों की तादाद में बनाने या रखने की इजाजत कौन देगा ? कौन से नौजवान हथियारों की सिखलाई लेंगे । बाबा रामदेव सिखलाई के लिये सिखाने वाले लोग कहाँ से लायेगा । पैसा कहाँ से आयेगा । हथियार कहाँ से और कैसे और कितने खरीदे जायेंगे । किस प्रांत या जगह पर लडकों को बन्दूक चलानी या बम्ब फ़ोडना सिखाया जायेगा ।
*********
आपका कुछ उत्तर तो ऊपर है ही । आप सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी के बारे में जानते हैं । जिसमें खुद का लायसेंसी रिवाल्वर या रायफ़ल होने पर आठ से दस हजार की नौकरी मिल जाती है । दूसरे बाबा जिस जाति से ताल्लुक रखते हैं । उनके पास लायसेंसी हथियारों की भरमार है । और सिखाने के लिये एक प्रशिक्षण केन्द्र वैधानिक तरीके से कहीं भी बना लेना । और फ़िर उसमें निशानेबाजी । तीरदांजी । कुंगफ़ू कराटे आदि सिखाने की व्यवस्था कर लेना । बाबा रामदेव के लिये चुटकी बजाने जैसा होगा । कालेज में भी तो NCC में बंदूक चलाना सिखायी जाती है । अब बाबा ने एक मोटे अन्दाज में एक बात कही थी । उसके सभी पहलूओं का खुलासा तो नहीं किया था ।

बाबा रामदेव ने कहा है कि - मैं कम से कम 11000 नौजवानों की हथियार बन्द सेना तैयार करुँगा । क्या बाबा रामदेव दूसरा ओसामा बिन लादेन बनना चाहता है । पिछला इतिहास उठाकर अगर देंखे । तो ये जितने ऐसे लोग थे । जो धर्म के नाम पर आतंकवाद करने चले थे । चाहे ओसामा या भिंडरावाला । सब ... की मौत मारे गये । लेकिन दुनियाँ को फ़िर भी नहीं अक्ल आयी ।
**********
मैंने हमेशा कहा । दूसरे पक्ष की भूमिका बेहद महत्वपूर्ण होती है । बाबा रामदेव ऐसा भी करते रहें । तो सरकार कुछ तो टायट रहेगी । जनता में जागरूकता पैदा होगी । और तब ऐसे सुधारक अन्य लोग भी सामने आ सकते हैं । बाबा लादेन जैसी घटिया सोच का नहीं है ।
हरिद्वार में जो आश्रम के नाम पर काफ़ी सारी जमीन है । वो भी BJP ने बेहद सस्ते दाम पर आश्रम को दिलवाई थी । क्युँ कि हिमाचल प्रदेश और उत्तराखन्ड में  BJP  है ।
***********
जब भी कोई रजिस्टर्ड संस्था किसी भी प्रकार का सामाजिक भलाई का कार्य करती है । तो संविधान के

नियमानुसार उसे 1 या 2 रुपये वर्ग मीटर की दर से या फ़िर नाममात्र मूल्य पर जमीन उपलब्ध कराने का नियम होता है । इसके लिये संस्था कम से कम 10 साल पुरानी हो । उसकी उपलब्धियों आदि के प्रमाणिक दस्तावेज उपलब्ध हों । फ़िर रामदेव की संस्था तो विश्व स्तरीय है । अतः ऐसी जमीन मिलना गलत नहीं है । हाँ ये बात अलग है । मनचाहे स्थान पर । मनमाने तरीके से जमीन देना गलत है । यदि कोई भी व्यक्ति आज वन संरक्षण । वन पशु संरक्षण आदि जैसी जरूरतों पर ईमानदारी से कार्य करता है । तो सरकार की तरफ़ से उसे पूरा सहयोग मिलता है । इस तरह की हजारों लाभदायक योजनायें होती हैं । जिन्हें आम छोङो । खास लोग भी कम ही जानते हैं ।
लघु सिंचाई विभाग की पूरी योजना रूपरेखा सिर्फ़ एक व्यक्ति के दिमाग से पैदा हुयी थी । आज ये सरकारी विभाग है । वही व्यक्ति उस विभाग का चीफ़ नियुक्त हुआ था । अतः पब्लिक की ना जानकारी की वजह से ऐसी बातें पैदा हो जाती हैं । फ़िर ऐसी जमीन सिर्फ़ रामदेव नहीं कितने लोग लिये बैठे हैं । बाबा रामदेव ने फ़िर भी उनसे अच्छा काम किया है ।

हम सब दोस्त तो ये चाहते हैं कि - इस इंडिया में सब हिन्दू । सिख । मुस्लिम और ईसाई एक बढिया परिवार की तरह रहें । अब हम सब भारतवासियों को चाहिये कि इन राजनीतिक चालों के चक्कर में ना आये ।
***********
तब इसके लिये बाबा रामदेव का नहीं । राजीव बाबा का फ़ार्मूला ही काम करेगा । सनातन धर्म । जाति मनुष्य । और एक अविनाशी परमात्मा की भक्ति ।

राजनीति ने ही पाकिस्तान बना दिया । राजनीति के कारण बांग्ला देश अलग हुआ । कहते हैं कि पुराने समय में ये भारत की हद अफ़गानिस्तान तक थी । अफ़गानिस्तान में जो काबुल और कन्धार जगह है । महाभारत के समय में इस कान्धार को गंधार कहा जाता था । जहाँ की राजकुमारी गंधारी ( दुर्योधन की माँ ) थी । तभी तो शकुनी को गंधार नरेश बोला जाता था । भारत की हद बर्मा तक भी थी । नेपाल का भी शायद कुछ हिस्सा भारत के अंतर्गत ही आता था । अनुचित राजनीति ने आधुनिक भारत को क्या दिया ? नक्शा आपके सामने हैं ।
***********
आपकी जानकारी बिल्कुल सही है । इससे भी आगे पहले चक्रवती राजा होते थे । पूरा विश्व ही जिनके अधीन होता था ।
लगे हाथ ये भी बता दीजिये कि आप 2 प्रेत कहानियाँ लिख रहे थे । वो दोनों प्रेत कहानियाँ कब तक छप जायेंगी ? राजपुरा से सुभाष और रजत ( साथ में नीशु । शालु । वरुण । दीपक । जतिन । कपिल । नितिन । अतुल । राहुल । रोहित और अंकुर भी )
***********
कार्य प्रगति पर हैं । पर सरकार भारत की है । जैसे ही सरकार महँगाई गरीबी दूर कर देगी । कहानी भी छप जायेगी । बाबा के पेट का सवाल है भाई ।

मेरी बात - क्या निम्नलिखित को अध्यात्म में जानना चाहेंगे । मगर मुझे थोङा फ़ुरसत होने पर । तव तक आप सोचो । इसमें बहुत बङा रहस्य है । या बाबा रामदेव से पूछो ।
Atom comprise-Nucleus+ Electrons around nucleus. Nucleus= Neutrons+Protons.
Electrons circulate around nucleus. Atomic Wt.=Neutrons+Protons
At. No.= No. of protons.
Many atoms combined to form molecule.
H atom+ H atom= H2 Molecule
According to old concept electron circulate in circular orbits around nucleus but according to new concept there is a 3D space around nucleus in which the probability of finding the electrons is maximum.
बुरा बुरा छोङ देना । अच्छा अच्छा अपना लेना । बन्दे तू हरि नाम जपना । क्योंकि जीवन बस एक सपना ।
एक टिप्पणी भेजें