08 जून 2011

कबीर और रानी इन्द्रमती

त्रेता युग समाप्त हुआ । और द्वापर युग आ गया । तब फ़िर काल निरंजन का प्रभाव हुआ । और फ़िर सत्यपुरुष ने ग्यानी जी को बुलाकर कहा - हे ग्यानी ! तुम शीघ्र संसार में जाओ । और काल निरंजन के बँधनों से जीवों का उद्धार करो । काल निरंजन जीवों को बहुत पीङा दे रहा है । जाकर उसकी फ़ाँस काटो ।
तब मैंने सत्यपुरुष की बात सुनकर उनसे कहा - आप प्रमाणित स्पष्ट शब्दों में आग्या करो । तो मैं काल निरंजन को मारकर सब जीवों को सत्यलोक ले आता हूँ । बारबार ऐसा करने संसार में क्या जाऊँ ।
सत्यपुरुष बोले - हे योग संतायन ! सुनो । सार शब्द का उपदेश सुनाकर जीव को मुक्त कराओ । जो अब जाकर काल निरंजन को मारोगे । तो हे सुत ! तुम मेरा वचन ही भंग करोगे ।
अब तो अग्यानी जीव काल के जाल में फ़ँसे पङे हैं । और उसमें ही उन्हें मोहवश सुख भास रहा है । लेकिन जब तुम उन्हें जाग्रत करोगे । तब उन्हें आनन्द का अहसास होगा । जब तुम काल निरंजन का असली चरित्र बताओगे । तो सब जीव तुम्हारे चरण पकङेंगे ।
हे ग्यानी ! जीवों का भाव स्वभाव तो देखो कि ये ग्यान अग्यान को पहचानते समझते नहीं हैं । तुम संसार में सहज भाव से जाकर प्रकट होओ । और जीवों को चेताओ ।
तब मैं फ़िर से संसार की तरफ़ चला । इधर आते ही चालाक और प्रपंची काल निरंजन ने मेरे चरणों में सिर झुका दिया ।
तब वह काल निरंजन कातर भाव से बोला - अब किस कारण से संसार में आये हो ? मैं आपसे विनती करता हूँ । सारे संसार के जीवों को समझाओ । ऐसा मत करना । आप मेरे बङे भाई हो । मैं आपसे विनती करता हूँ । सभी जीवों को मेरा रहस्य न बताना ।
तब मैंने कहा - हे निरंजन सुन । कोई कोई जीव ही मुझे पहचान पाता है । और मेरी बात समझता है । क्योंकि तुमने जीवों को अपने जाल में बहुत मजबूती से फ़ँसाकर ठगा हुआ है ।
हे धर्मदास ! ऐसा कहकर मैंने सत्यलोक और सत्यलोक का शरीर छोङ दिया । और मनुष्य शरीर धारण कर मृत्युलोक में आया । उस युग में मेरा नाम करुणामय स्वामी था । तब मैं गिरनार गढ आया । जहाँ राजा चन्द्रविजय राज्य करते थे । उस राजा की स्त्री बहुत बुद्धिमान थी । और उसका नाम इन्द्रमती था । वह सन्त समागम करती थी । और ग्यानी सन्तों की पूजा करती थी ।
रानी इन्द्रमती अपने स्वभाव के अनुसार महल की ऊँची अटारी पर चङकर रास्ता देखा करती थी । यदि रास्ते में उसे कोई साधु जाता नजर आता । तो तुरन्त उसको बुलबा लेती थी । इस प्रकार सन्तों के दर्शन हेतु वह अपने शरीर को कष्ट देती थी । वह किसी सच्चे सन्त की तलाश में थी ।
उसके ऐसे भाव से प्रसन्न हम उसी रास्ते पर पहुँच गये ।
जब रानी की दृष्टि हम पर पङी । तो उसने तुरन्त दासी को आदर पूर्वक बुलाने भेजा । दासी ने रानी का विनमृ संदेश मुझे सुनाया ।
तब मैंने दासी से कहा - हे दासी ! हम राजा के घर नहीं जायेंगे । क्योंकि राज्य के कार्य में झूठी मान बङाई होती है । और साधु का मान बङाई से कोई सम्बन्ध नहीं होता । अतः मैं नहीं जाऊँगा ।
दासी ने रानी से जाकर ऐसा ही कहा । तब रानी स्वयँ दौङी दौङी आयी । और मेरे चरणों में अपना शीश रख दिया ।
और बोली - हे साहिब ! हम पर दया कीजिये । और अपने पवित्र श्रीचरणों से हमारा घर धन्य कीजिये । आपके दर्शन पाकर मैं सुखी हो गयी ।
उसका ऐसा प्रेम भाव देखकर हम उसके घर चले गये । तब रानी भोजन के लिये मुझसे निवेदन करती हुयी बोली - हे प्रभु ! भोजन तैयार करने की आग्या देकर मेरा सौभाग्य बङायें । आपकी जूठन मेरे घर में पङे । और बचा भोजन शेष प्रसाद के रूप में मैं खाऊँ ।
तब मैंने कहा - हे रानी सुनो । पाँच तत्व ( का शरीर ) जिस भोजन को पाते हैं । उसकी भूख मुझे नहीं होती । मेरा भोजन अमृत है । मैं तुम्हें इसको समझाता हूँ ।
मेरा शरीर प्रकृति के पाँच तत्व और तीन गुण वाला नहीं है । बल्कि अलग है । पाँच तत्व । तीन गुण । पच्चीस प्रकृति से तो काल निरंजन ने मनुष्य शरीर की रचना की है । स्थान और क्रिया के भेद से काल निरंजन ने वायु के पिचासी भाग किये । इसलिये पिचासी पवन कहा जाता है । इसी वायु तथा चार अन्य तत्व प्रथ्वी जल आकाश अग्नि से ये मनुष्य शरीर बना है । परन्तु मैं इनसे एकदम अलग हूँ ।
इस पाँच तत्व की स्थूल देह में एक आदि पवन है । आदि का मतलब यहाँ जन्म मरण से रहित । नित्य । अविनाशी और शाश्वत है । वह चैतन्य जीव है । उसे " सोहंग " बोला जाता है ।
यह जीव सत्यपुरुष का अंश है । काल निरंजन ने इसी जीव को भृम में डालकर सत्यलोक जाने से रोक रखा है । यह काल निरंजन ऐसा करने के लिये नाना प्रकार के माया जाल रचता है । और सांसारिक विषयों का लोभ लालच देकर जीवों को उसमें फ़ँसाता है । और फ़िर खा जाता है । मैं उन्ही जीवों को काल निरंजन से उद्धार कराने आया हूँ । काल ने पानी पवन प्रथ्वी आदि तत्वों से जीव की बनाबटी देह की रचना की । और इस देह में वह जीवों को बहुत दुख देता है । मेरा शरीर काल निरंजन ने नहीं बनाया । मेरा शरीर शब्द स्वरूप है । जो खुद मेरी इच्छा से बना है ।
यह सब सुनकर रानी इन्द्रमती को बहुत आश्चर्य हुआ । और वह बोली - हे प्रभु ! जैसा आपने कहा । ऐसा कहने वाला दूसरा कोई नहीं मिला । हे दयानिधि ! आप मुझे और भी ग्यान बताओ । मैंने सुना है कि विष्णु के समान दूसरा कोई बृह्मा शंकर मुनि आदि भी नहीं है । पाँच तत्वों के मिलने से यह शरीर बना है । और उन तत्वों के गुण भूख प्यास नींद के वश में सभी जीव हैं ।
हे प्रभु ! आप अगम अपार हो । आप मुझे बताओ कि बृह्मा विष्णु तथा शंकर से भी अलग आप कहाँ से उत्पन्न हुये हो ? ऐसा बताकर मेरी जिग्यासा शान्त करो ।
तब मैंने कहा - हे इन्द्रमती ! मेरा देश नागलोक - पाताल । मृत्युलोक - प्रथ्वी । और देवलोक - स्वर्ग । इन सबसे अलग है । वहाँ काल निरंजन को घुसने के अनुमति नहीं है । इस प्रथ्वी पर चन्द्रमा सूर्य है । पर सत्यलोक में सत्यपुरुष के एक रोम का प्रकाश करोंङो चन्द्रमा के समान है । ( वहाँ का उजाला चमकीला एकदम सफ़ेद होने से चन्द्रमा के जैसा कहा है । सूर्य के प्रकाश में पीला रंग होता है ) तथा वहाँ के हँस जीव ( मुक्त होकर गयी आत्मायें ) का प्रकाश सोलह सूर्य के बराबर है । उन हँस जीवों में अगर ( चन्दन ) के समान सुगन्ध आती है । और वहाँ कभी रात नहीं होती ।
( इसके बाद कबीर साहब ने इन्द्रमती को आदि सृष्टि से लेकर पूरी कथा बतायी । जो इन ब्लाग में कबीर धर्मदास संवाद के रूप में प्रकाशित हो चुकी है )
तब रानी इन्द्रमती घबराकर बोली - हे प्रभु ! आप मुझे इस यम काल निरंजन से छुङा लो । मैं अपना समस्त राजपाट आप पर न्योछावर करती हूँ । मैं अपना सब धन संपत्ति का त्याग करती हूँ । हे बन्दीछोङ ! मुझे अपनी शरण में लो ।
तब मैंने कहा - हे रानी ! मैं तुम्हें अवश्य यम काल निरंजन से छुङाऊँगा । मैं तुम्हें सत्यनाम का सुमरन दूँगा । पर मुझको तुम्हारी धन संपत्ति तथा राजपाट से कोई प्रयोजन नहीं है । जो धन संपत्ति तुम्हारे पास है । उससे पुण्य कार्य करो । सच्चे साधु सन्तों का आदर सत्कार करो । सत्यपुरुष के ही सभी जीव हैं । ऐसा जानकर उनसे व्यवहार करो । परन्तु वे मोहवश अग्यान के अँधकार में पङे हुये हैं । सब शरीरों में सत्यपुरुष के अंश जीवात्मा का ही वास है । पर वह कहीं प्रकट और कहीं गुप्त है ।
हे रानी ! ये समस्त जीव सत्यपुरुष के हैं । परन्तु वे मोह के भृमजाल में फ़ँसे काल निरंजन के पक्ष में हो रहे हैं । यह सब चरित्र काल निरंजन का ही है कि सब जीव सत्यपुरुष को भुलाकर उसके फ़ैलाये खानी वाणी के जाल में फ़ँसे हुये हैं ।
और उसने यह जाल इतनी सूझबूझ से फ़ैलाया है कि मुझ जैसे उद्धारक से भी जीव कालवश होकर उसका पक्ष लेकर लङते हैं । और मुझे भी नहीं पहचानते । इस प्रकार ये भृमित जीव सत्यपुरुष रूपी अमृत को छोङकर विष रूपी काल निरंजन से प्रेम करते हैं । असंख्य जीवों में से कोई कोई ही इस कपटी काल निरंजन की  चालाकी को समझ पाता है । और सत्यनाम का उपदेश लेता है ।
तब इन्द्रमती बोली - हे प्रभु ! अब मैंने सब कुछ समझ लिया है । अब आप वही करो । जिससे मेरा उद्धार हो ।
कबीर साहब बोले - हे धर्मदास ! तब मैंने रानी को सत्यनाम उपदेश किया । यानी दीक्षा दी । तब रानी ने ऐसी अनुभूति ( दीक्षा के समय होने वाली ) से प्रभावित होकर अपने पति से कहा - हे स्वामी ! यदि आप सुखदायी मोक्ष चाहते हो । तो करुणामय स्वामी की शरण में आओ । मेरी इतनी बात मानों ।
तब राजा बोला - हे रानी ! तुम मेरी अर्धांगिनी हो । इसलिये मैं तुम्हारी भक्ति में आधे का भागीदार हूँ । इसलिये हम तुम दोनों भक्त नहीं होंगे । मैं सिर्फ़ तुम्हारी भक्ति का प्रभाव देखूँगा कि किस प्रकार तुम मुझे मुक्त कराओगी । मैं तुम्हारी भक्ति का प्रताप देखूँगा । जिससे सब दुख कष्ट मिट जायेंगे । और हम सत्यलोक जायेंगे ।
एक टिप्पणी भेजें