13 सितंबर 2013

पूर्व जन्म का ज्ञान कराने वाला यंत्र

हरिनाम विना वत्स वर्णशुद्धिर्न जायते । तस्माच्छेयस्करम राजन हरिनामानुकीर्तनं, गृहाण हरिनामानि यथाक्रममनिन्दित । 
- वत्स ! हरि नाम के बिना वर्ण शुद्धि नहीं होगी । अतएव राजन ! हरि नाम का कीर्तन ही कल्याणकारी है । तुम पवित्र हरि नामों को ही क्रम से ग्रहण करो ।
************
रसायन शास्त्र 1 प्रयोगात्मक विज्ञान है । खनिजों, पौधों, कृषि धान्य आदि के द्वारा विविध वस्तुओं का उत्पादन, विभिन्न धातुओं का निर्माण व परस्पर परिवर्तन तथा स्वास्थ्य की दृष्टि में आवश्यक औषधियों का निर्माण इसके द्वारा होता है ।

नागार्जुन ने रसायन शास्त्र और धातु विज्ञान पर बहुत शोध कार्य किया । रसायन शास्त्र पर इन्होंने कई पुस्तकों की रचना की । जिनमें " रस रत्नाकर " और " रसेन्द्र मंगल " बहुत प्रसिद्ध हैं । रसायन शास्त्री व धातुकर्मी होने के साथ साथ इन्होंने अपनी चिकित्सकीय ‍सूझबूझ से अनेक असाध्य रोगों की औषधियाँ तैयार की । चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में इनकी प्रसिद्ध पुस्तकें " कक्षपुटतंत्र " " आरोग्य मंजरी " " योगसार " और " योगाष्टक " हैं ।
रस रत्नाकर ग्रंथ में मुख्य रस माने गए निम्न रसायनों का उल्लेख किया गया है ।
1 महा रस 2  उप रस 3  सामान्य रस 4  रत्न 5  धातु 6  विष 7 क्षार 8 अम्ल 9 लवण 10 भस्म ।
महा रस इतने है -
1 अभ्रं 2 वैक्रान्त 3  भाषिक 4 विमला 5  शिलाजतु 6 सास्यक 7 चपला 8 रसक
उप रस -
1 गंधक 2 गैरिक 3 काशिस 4 सुवरि 5 लालक 6 मन:शिला 7 अंजन 8 कंकुष्ठ
सामान्य रस -
1 कोयिला 2 गौरी पाषाण 3 नवसार 4 वराटक 5 अग्निजार 6 लाजवर्त 7 गिरि सिंदूर 8 हिंगुल 9  मुर्दाड श्रंगकम्‌
इसी प्रकार 10 से अधिक विष हैं । रस रत्नाकर अध्याय 9 में रसशाला यानी प्रयोगशाला का विस्तार से वर्णन भी

है । इसमें 32 से अधिक यंत्रों का उपयोग किया जाता था । जिनमें मुख्य हैं - 1 दोल यंत्र 2 स्वेदनी यंत्र 3 पाटन यंत्र 4 अधस्पदन यंत्र  5 ढेकी यंत्र 6 बालुक यंत्र 7 तिर्यक्‌ पाटन यंत्र 8 विद्याधर यंत्र 9 धूप यंत्र 10 कोष्ठि यंत्र 11 कच्छप यंत्र 12 डमरू यंत्र ।
प्रयोगशाला में नागार्जुन ने पारे पर बहुत प्रयोग किए । विस्तार से उन्होंने पारे को शुद्ध करना । और उसके औषधीय प्रयोग की विधियां बताई हैं । अपने ग्रंथों में नागार्जुन ने विभिन्न धातुओं का मिश्रण तैयार करने । पारा तथा अन्य धातुओं का शोधन करने । महा रसों का शोधन । तथा विभिन्न धातुओं को स्वर्ण या रजत में परिवर्तित करने की विधि दी है ।
पारे के प्रयोग से न केवल धातु परिवर्तन किया जाता था । अपितु शरीर को निरोगी बनाने और दीर्घायुष्य के लिए उसका प्रयोग होता था । भारत में पारद आश्रित रस विद्या अपने पूर्ण विकसित रूप में स्त्री  पुरुष प्रतीकवाद से जुड़ी है । पारे को शिव तत्व तथा गन्धक को पार्वती तत्व माना गया । और इन दोनों के हिंगुल के साथ जुड़ने पर जो द्रव्य उत्पन्न हुआ । उसे रस सिन्दूर कहा गया । जो आयुष्य वर्धक सार के रूप में माना गया ।
पारे की रूपान्तरण प्रक्रिया - इन ग्रंथों से यह भी ज्ञात होता है कि रस शास्त्री धातुओं और खनिजों के हानिकारक गुणों को दूर कर । उनका आन्तरिक उपयोग करने हेतु । तथा उन्हें पूर्णत: योग्य बनाने हेतु विविध शुद्धिकरण की प्रक्रियाएं करते थे । उसमें पारे को 18 संस्कार यानी शुद्धिकरण प्रक्रिया से गुजरना पड़ता था । इन प्रक्रियाओं

में औषधि गुण युक्त वनस्पतियों के रस और काषाय के साथ पारे का घर्षण करना । और गन्धक, अभ्रक तथा कुछ क्षार पदार्थों के साथ पारे का संयोजन करना प्रमुख है । रसवादी यह मानते हैं कि क्रमश: 17 शुद्धिकरण प्रक्रियाओं से गुजरने के बाद पारे में रूपान्तरण ( स्वर्ण या रजत के रूप में ) की सभी शक्तियों का परीक्षण करना चाहिए । यदि परीक्षण में ठीक निकले । तो उसको  18वीं शुद्धिकरण की प्रक्रिया में लगाना चाहिए । इसके द्वारा पारे में काया कल्प की योग्यता आ जाती है ।
नागार्जुन कहते हैं -
क्रमेण कृत्वाम्बुधरेण रंजित: । करोति शुल्वं त्रिपुटेन काञ्चनम । 
सुवर्ण रजतं ताम्रं तीक्ष्णवंग भुजङ्गमा:। लोहकं षडि्वधं तच्च यथापूर्व तदक्षयम । रस रत्नाकार  3-7-89-10 
अर्थात - धातुओं के अक्षय रहने का क्रम निम्न प्रकार से है - सुवर्ण, चांदी, ताम्र, वंग, सीसा, तथा लोहा । इसमें सोना सबसे ज्यादा अक्षय है ।
नागार्जुन के रस रत्नाकर में अयस्क सिनाबार से पारद को प्राप्त करने की आसवन ( डिस्टीलेशन ) विधि । रजत के धातु कर्म का वर्णन । तथा वनस्पतियों से कई प्रकार के अम्ल और क्षार की प्राप्ति की भी विधियां वर्णित हैं ।
इसके अतिरिक्त रस रत्नाकर में रस ( पारे के योगिक ) बनाने के प्रयोग दिए गये हैं । इसमें देश में धातु कर्म और कीमियागरी के स्तर का सर्वेक्षण भी दिया गया था । इस पुस्तक में चांदी, सोना, टिन और तांबे की कच्ची धातु निकालने । और उसे शुद्ध करने के तरीके भी बताये गए हैं ।

पारे से संजीवनी और अन्य पदार्थ बनाने के लिए नागार्जुन ने पशुओं और वनस्पति तत्वों और अम्ल और खनिजों का भी इस्तेमाल किया । हीरे, धातु और मोती घोलने के लिए उन्होंने वनस्पति से बने तेजाबों का सुझाव दिया । उसमें खट्टा दलिया, पौधे और फलों के रस से तेजाब Acid  बनाने का वर्णन है ।
नागार्जुन ने सुश्रुत संहिता के पूरक के रूप में उत्तर तन्त्र नामक पुस्तक भी लिखी । इसमें दवाइयां बनाने के तरीके दिये गये हैं । आयुर्वेद की 1 पुस्तक " आरोग्यमजरी " भी लिखी ।
***********
त्राटक शक्ति चक्र - इस चक्र के दाहिने तथा बांये कोने को एक साथ देखकर त्राटक की क्रिया पूरी की जा सकती है । यह मन की स्थिरता के लिए तथा योग्य गुरु के साथ साधना करके सम्मोहन में भी पारंगतता प्राप्त की जा सकती है । सूक्ष्म योग ।
**********
पूर्व जन्म का ज्ञान कराने वाला अचूक यंत्र - बहुत आसान है । इस यंत्र बिधान से पूर्व जन्म ज्ञात करना । इस

यंत्र को डाउनलोड करके रंगीन प्रिंट कराकर साधक की जगह अपना नाम लिखकर इसे अपने सोने वाले कमरे में सर की तरफ लटका दें ( अमावस्या के दिन ) उस दिन से 15 दिन तक शराब मांस का सेवन न करें । सोने से पहले कुछ पल यंत्र को अपलक निहारें । और सो जायें । सुबह 15 दिनों तक देखें । स्वप्न ( जो सुबह तक याद रहे ) को 1 डायरी में लिखें । आपके पूर्व जन्म से जुडी कुछ बिशेष घटनाओं की सूची आपके पास मौजूद होगी । ये मेरा आजमाया हुवा प्रसिद्ध लामा यंत्र है । नेपाल में इसका प्रयोग उच्चकोटि के साधक करते आये हैं । आप भी करें । और हमें अपने अनुभवों को लिखें । हाँ साधना के समय पर स्त्री गमन न करें । बृह्मचारी रहना श्रेयकर होगा ।
**********
बाँवरी ( तुलसी ) के पल्लवों को किसी भी इतवार या मंगलबार को हाथ धोकर तोड़ें । इन्हें 3 बार सूंघकर अपने रुमाल में मोड़कर जेब में रख लें । दिन भर जेब में पड़े रहने दें । शाम को इसे सरसों के तेल में पकाकर तेल रख लें । जब जुकाम हो । तब इस तेल को नाक पर मल लें । जुकाम ठीक हो जायेगा । नजला जाता रहेगा । धुल धुंए से होने वाली नाखुशी भी ठीक हो जाएगी । जरुर आजमाईये ।
************
लड़का और लड़की पिकनिक पर गए । वहाँ लड़के को चोट लग गयी । और खून बहने लगा । वो लड़की की तरफ

देखने लगा । बेचारा फिल्मों में बहुत बार देख चुका था । इसलिये सोचने लगा कि अभी वो अपना दुपट्टा फाङकर बांधेगी । लड़की लड़के की नज़रों का मतलब समझते हुवे बोली - बेटा ! सोचना भी नहीं 4500 का सूट है । Rawat.G ♥♥
************
fooling hindus by showing dreams about their imagined past created by hindutva fascists - Durga Sharma Jones 
https://www.facebook.com/pages/Durga-Sharma-Jones/227980217354812
एक टिप्पणी भेजें