29 अक्तूबर 2013

बहू के पीछे छोडा गया बिना पैसे का जासूस

निर्दोष है राहुल । धोबी ने भरे थे कान - 1 सुबह शीर्षासन करने के बाद पसीने से नहाये राहुल अपने सरकारी निवास के अहाते में बैठे आरेंज जूस की चुस्कियां भर रहे थे । तभी उन्होंने 1 व्यक्ति को बड़ी सी गठरी लिए उनके घर से निकलते देखा । राहुल ने उसे आवाज देकर बुलाया । और पूछा कि - वो कौन है । उसने घबराते हुए कहा - मैं धोबी हूँ हजूर । अब सामान्य गृहस्थ कर्म से कोसों दूर रहे राहुल अपने दिमागी शब्दकोश में धोबी का अर्थ तलाशने लगा । उनकी परेशानी दूर करते हुए धोबी ने अपनी तथाकथित अंग्रेजी में कहा - मैं क्लीन करता हूँ मालिक । क्लीन शब्द सुनते ही राहुल सारा माजरा समझ गए कि यह शायद " क्लीन चिट " देने वाला कोई CBI या किसी खुफिया विभाग का आदमी है ।
राहुल ने मुस्कुराते हुए पूछा - किसी फाइल की " ग्रामर चैक " कराने आये हो । अब ‘ग्रामर’ शब्द ने धोबी को पसोपेश में डाल दिया । अतः धोबी ने समझा कि राहुल उसके गांव या ग्राम के हालातों पर बात कर रहे हैं । संयोग से, वो धोबी मूल रूप से मुजफ्परनगर हिंसा पीड़ित 1 गांव का था । उसने कहा - क्या बताऊं हजूर ! मुजफ्फरनगर में बहुत बुरा हुआ । इतना दंगा फैला कि हमें शक है कि कहीं पाकिस्तान चुपके से इसका नाजायज फायदा न उठा ले । इस पर राहुल ने कहा - वो ( मानस CBI कर्मी ) मामले पर नज़र रखे । इससे अवाक धोबी " हाँ सरकार " कह जान छुड़ाकर चला गया । Nitin Mathur
*******************

मित्रो ! सूर्य का रंग क्या है ? आप सभी का उत्तर 1 ही होगा - भगवा । अब यदि अल्लाह का अस्तित्व होता । तो धरती को प्राण देने, पूरी सृष्टि में जीवन का संचार करने वाले भगवान सूर्य नारायण को वो हरे रंग में रंगता ।
खैर.. जो भगवा के लिए स्वयं को तपा दें । स्वयं की आहुति दे । स्वयं को जो बलिदान कर दे । या पूर्ण रूप से समर्पित कर दे । वही भगवान है । परन्तु परमात्मा इससे भिन्न है । बूँद गिलास में गिरे तो गिलास का पानी बन जाती है । छोटी धारा में गिरे तो झील बन जाती है । बड़ी धारा में वो तालाब बन जाती है । उससे भी बड़ी धारा में गिरे तो वो नदी बन जाती है । पर अथाह समुद्र में 1 बूँद क्या 1 नदी का भी कोई महत्व नहीं । क्योंकि समुद्र किसी 1 नदी, जलराशि का मोहताज नहीं । इसलिए समुद्र का कोई ओर छोर नहीं । ऐसे ही परमात्मा के समक्ष हम छोटी छोटी आत्माओं का कोई महत्व नहीं । वो परमात्मा अलग है । और आत्मा अलग है । इसलिए उसे परम आत्मा - परमात्मा कहा गया है । Hindurashtra
*******************
नमस्कार मित्रो ! आज मैं आपको 1 महत्वपूर्ण बात बताने जा रहा हूँ । जब भी आप कोई नया कंप्यूटर या

लैपटाप खरीदने जाते हैं । तो अगर आप विंडोज वाला कंप्यूटर लेते हैं । यानी वो कम्प्यूटर या लेपटोप जिसमें विंडोज पहले से इंस्टाल आती है । तो आपको उसके ढाई से 3000  रूपये ज्यादा देने पड़ते हैं । जो कि विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम की लाइसेंस फीस होती हैं । और वे रुपये अमेरिका चले जाते हैं - माइक्रोसॉफ्ट के पास । लेकिन अगर आप वही लैपटॉप या कंप्यूटर लाइनक्स या डॉस आपरेटिंग सिस्टम के साथ खरीदते हैं । तो आपको कंप्यूटर बहुत सस्ता पड़ेगा । क्योंकि लाइनक्स मुफ्त होता है । लाइनक्स मुफ्त इसीलिए है । क्योंकि संसार भर में प्रोग्रामर इसके लिए मुफ्त में कोडिंग करते हैं । ताकि समाज को देन मिल जाये । और कोई भी प्रोग्रामर कर सकता है । भारत की सभी कोर्ट में लाइनक्स इस्तेमाल होता है । जिससे काफी पैसा बचता है । चीन अपना खुद का लाइनक्स बना रहा है । ताकि अमेरिका जाने वाले पैसे को रोका जा सके । मैं भी 1 साल से यही इस्तेमाल करता हूँ । और अगर किसी को चाहिए । तो इन्टरनेट पर हज़ारों तरह के लिनक्स मुफ्त में डाउनलोड के लिए उपलब्ध हैं । किसी सीरियल नंबर की कोई जरूरत नहीं । वैसे तो आप लाइनक्स को कैसी भी शक्ल दे सकते हैं । अगर किसी को कोई मदद या जानकारी चाहिए । तो हज़ारो लिनक्स के ग्रुप और पेज फेसबुक पर हैं । जो बहुत सरलता से आपकी सहायता कर देंगे । 
उबुन्टु Ubuntu लाइनक्स बहुत सरलता से इंस्टाल हो जाता है । और इसका यूजर इंटरफेस बहुत सुविधाजनक है । अगर आप स्मार्ट फ़ोन खरीदने जा रहे हैं । तो विंडोज फ़ोन ना खरीदें । क्योंकि उस फ़ोन की कीमत में माइक्रोसोफ्ट की लाइसेंस फीस भी शामिल होती है । जो बिल गेट्स की जेब में चली जाती है । इसके बजाय 

आप स्वदेशी मोबाइल कम्पनी जैसे कार्बन, माइक्रोमेक्स आदि का एंड्राइड फोन खरीदे । स्वदेशी अपनाए । देश बचाए ।
*******************
वेदों में विज्ञान । मंडल 1 सूक्त 164 मन्त्र 25
जगता सिन्धुं दिव्यस्तभायद्रथन्तरे सूर्यं पर्यपश्यत ।
गायत्रस्य समिधस्तिस्त्र आहुस्ततो मह्राप्र रिरिचे महित्वा ।
गतिमान सूर्य देव द्वारा प्रजापति ने द्दयु लोक में जलों को स्थापित किया । वृष्टि के माध्यम से जल, सूर्य देव, और पृथ्वी संयुक्त होते हैं । तब सूर्य और द्द्यु लोक में सन्निहित प्राण, जल वृष्टि के द्वारा इस पृथ्वी पर प्रकट होता है । गायत्री के 3 पाद अग्नि सूर्य और विद्युत हैं । उस प्रजापति की तेजस्विता से ही ये तीनो पाद शक्तिशाली हैं । ऐसा माना गया है ।
रोहित कुमार
*******************
अगर आध्यात्म या अलौकिक विज्ञान के अनुसार बात की जाये । तो ये 9 द्वार हमारे शरीर के आँखों से नीचे पिंड भाग में स्थित हैं । क्योंकि मायावश हम अज्ञान से इसी शरीर से मोहित हुये इसी शरीर को सत्य मानते हैं । अतः - जहाँ आशा वहाँ वासा । जैसी मति वैसी गति । अन्त मता सो गता.. सिद्धांत अनुसार हमारी गति पशुवत ही होती है । क्योंकि शरीर ही सत्य नहीं है । यह सिद्ध है । पर हम जीवन अन्त तक शरीर से पशु की भांति मोहित रहते हैं । इसलिये अन्तिम गति भी पशुवत ही होगी । 
तब मृत्यु समय दोनों कानों ( में किसी एक ) से जीवात्मा निकलने पर विभिन्न प्रकार की प्रेत योनि होगी । 

क्योंकि प्रेतत्व शब्द ध्वनि आधारित है । दोनों आँखों ( में किसी एक ) से जीवात्मा निकलने पर प्रकाश प्रेमी विभिन्न कीट पतंगे होगें । क्योंकि कीट पतंगे प्रकाश आकर्षण वाले हैं । दोनों नासिका छिद्रों में किसी एक से प्राण तजने पर वायुचर जीव पक्षी आदि । क्योंकि नासिका छिद्र से वायु ही बाहर होती है । मुँह से विभिन्न प्रकार के पशु । क्योंकि यह सिर्फ़ उदर पूर्ति और स्वाद का माध्यम अधिक है । लिंग या योनि छिद्र से तदनुसार ही विभिन्न जल जीव । और गुदा मार्ग से तदनुसार ही विभिन्न नरकगामी होगा । अतः सिर्फ़ दसवां द्वार ही आगे मनुष्य शरीर या मोक्ष मार्ग देता है । राजीव कुलश्रेष्ठ
*******************
When energy moves through the body - it is sex, when energy moves through the soul - it is kundalini
Kundalini and Multi-Dimensional Consciousness
- ऐसा व्यर्थ प्रलाप सिर्फ़ पाश्चात्य व्यक्ति या पाश्चात्य सोच वाले ही कर सकते हैं । क्योंकि मूल रूप से शरीर या आत्मा से उठी उर्जा या चेतना का स्रोत सिर्फ़ आत्मा की चेतना ही है । क्योंकि ये लोग संभवतः सत रज तम तीन गुणों के बारे में नहीं जानते । इसलिये ऐसा कहते हैं । कोई भी उर्जा सिर्फ़ सत गुण से ही प्रवाहित होती है । फ़िर उस उर्जा को हम अपनी इच्छा या कामना अनुसार - कामवासना, भक्ति, उद्धार, मोक्ष आदि आदि अनगिनत कामना बहावों से जोङ सकते हैं । राजीव कुलश्रेष्ठ 
*******************
Yajnadatta, the Mad Man  यज्ञदत्त का सर - बौद्ध सुरंगम सूत्र में श्रावस्ती के 1 विक्षिप्त व्यक्ति यज्ञदत्त की कथा है । कथा में कहा गया है कि 1 दिन यज्ञदत्त ने दर्पण में स्वयं की छवि देखकर यह सोचा कि दर्पण में दिख रहे

व्यक्ति का सर है । यह विचार मन में आते ही यज्ञदत्त की रही सही बुद्धि भी पलट गयी । और वह सोचने लगा - ऐसा कैसे हो सकता है कि इस व्यक्ति का सर तो है । पर मेरा सर नहीं है । मेरा सर कहाँ चला गया ? यज्ञदत्त घर के बाहर भागा । और सड़क पर सभी से पूछने लगा - क्या तुमने मेरा सर देखा है ? मेरा सर कहाँ चला गया है ? उसने सभी से ये बात पूछी । और कोई भी उसे कुछ समझा नहीं सका । सभी ने उससे यही कहा - तुम्हारे सर है तो ? तुम किस सर की बात कर रहे हो ? लेकिन यज्ञदत्त कुछ समझ न पाया । यज्ञदत्त के जैसी ही स्थिति में करोड़ों मनुष्य अपने अस्तित्व से अनजान हैं । Upendra Kr Meena
*******************
आसाराम के चेहरे से उतर रहे हैं - मुखौटे पर मुखौटे । पढ़ें ये स्टोरी । जिसमें दिखाई देंगे आसाराम के रावण जैसे कई-कई चेहरे http://bit.ly/169QivV

*******************
An 81-year-old woman believes that a ghost healed her of an illness and she even has a photo to prove it. Woman claims a ghost healed her and she even has proof .by John Albrecht, Jr.
www.examiner.com/user/5107871/3571611/subscribe?destination=node/66941236
*******************
हल्दी और दूध । सेहत के लिहाज से इनके कई फायदे विभिन्न शोधों में माने गए हैं । लेकिन गर्म दूध के साथ हल्दी का सेवन भी आपकी सेहत के लिए कम फायदेमंद नहीं हैं । जान‌िए । हल्दी वाले दूध के ऐसे फायदों के बारे में जो सेहत से जुड़ी कई समस्याओं का हल हो सकते हैं । दमा से लेकर ब्रोंकाइट‌िस जैसे रोग - हल्दी एंटी माइक्रोबियल है । इसलिए इसे गर्म दूध के साथ लेने से दमा, ब्रोंकाइटिस, फेफड़ों में कफ और साइनस जैसी समस्याओं में आराम हो सकता है । यह बैक्टीरियर और वायरल संक्रमणों से लड़ने में मददगार है ।
वजन घटाने में फायदेमंद - गर्म दूध के साथ हल्दी के सेवन से शरीर में जमा फैट्स घटता है । इसमें मौजूद कैल्शियम और मिनिरल्स सेहतमंद तरीके से वेट लॉस में मददगार हैं ।
अच्छी नींद के लिए - हल्दी में अमीनो एसिड है । इसलिए दूध के साथ इसके सेवन के बाद नींद गहरी आती है । अनिद्रा की दिक्कत हो । तो सोने से आधे घंटे पहले गर्म दूध के साथ हल्दी का सेवन करें ।
दर्द से आराम - हल्दी वाले दूध के सेवन से गठिया से लेकर कान दर्द जैसी कई समस्याओं में आराम मिलता है । इससे शरीर का रक्त संचार बढ़ जाता है । जिससे दर्द में तेजी से आराम होता है ।
खून और लिवर की सफाई - आयुर्वेद में हल्दी वाले दूध का इस्तेमाल शोधन क्रिया में किया जाता है । यह खून से टॉक्सिन्स दूर करता है । और लिवर को साफ करता है । पेट से जुड़ी समस्याओं में आराम के लिए इसका सेवन फायदेमंद है ।
पीरियड्स में आराम - हल्दी वाले दूध के सेवन से पीरियड्स में पड़ने वाले क्रैंप्स से बचाव होता है । और यह मांसपेशियों के दर्द से छुटकारा दिलाता है ।
मजबूत हड्डियां - दूध में कैल्शियम अच्छी मात्रा में होता है । और हल्दी में एंटी ऑक्सीडेट्स भरपूर होते हैं । इसलिए इनका सेवन हड्डियों को मजबूत करता है ।
गुम चोट के इलाज में सहायक - 1 गिलास गर्म दूध में 1 टी स्पून हल्दी मिलाकर पीने से चोट के दर्द और सूजन में राहत मिलती है । चोट पर हल्दी और पानी का लेप लगाने से आराम मिलता है । आधा लीटर गर्म पानी, आधा चम्मच सेंधा नमक और 1 चम्मच हल्दी डाल कर अच्छी तरह मिलाएं । इस पानी में 1 कपड़ा डालकर निचोड़ लें । और चोट वाली जगह पर इससे सिंकाई करें ।
हड्डियों को मजबूत बनाए - रात को सोते समय हल्दी की 1 इंच लंबी कच्ची गांठ को 1 गिलास दूध में उबालें । थोड़ा ठंडा होने पर इसे पी लें । ऑस्टियोपोरोसिस जैसे रोगों का खतरा कम होता है ।
गठिया का इलाज - हल्दी इन रोगों के इलाज के लिए अनूठा घरेलू प्राकृतिक उपाय है । सुबह खाली पेट 1 गिलास गर्म दूध में 1 चम्मच हल्दी मिलाकर पीने से गठिया के दर्द में राहत मिलती है ।
एनीमिया के उपचार में प्रभावी - लोहे से समृद्ध हल्दी एनीमिया के इलाज के प्राकृतिक उपायों में 1 है । कच्ची हल्दी से निकाला गया आधा चम्मच रस 1 चम्मच शहद के साथ मिलाकर पीना फायदेमंद है । Indresh Tiwari
*******************
केले का छिलका - पृथ्वी से मिलाप करने का दलाल ।
सिनेमा - पैसा देकर कैद होने का स्थान है ।
जेल - बिना पैसे का हास्टल ।
सास - बहू के पीछे छोडा गया बिना पैसे का जासूस ।
चिन्ता - बजन कम करने की सबसे सस्ती दवा ।
मृत्यु - बिना पासपोर्ट के पृथ्वी से दूर जाने की छूट ।
ताला - बिना वेतन का चौकीदार ।
मुर्गा - देहात की अलार्म घडी ।
झगडा - वकील का कमाऊ बेटा ।
चश्मा - जादुई आँख ।
स्वप्न - बिना पैसे की फिल्म ।
हास्पिटल - रोगियों का संग्रहालय ।
शमशान - दुनिया का आखिरी स्टेशन ।
ईश्वर - किसी से मुलाकात न करने वाला व्यवस्थापक ।
चाय काफी - कलयुग का अमृत ।
विद्वान - अक्ल का ठेकेदार ।
सांप - शंकर भगवान का नेकलेस ।
चोर - रात का शरीफ व्यापारी ।
विश्व - एक महान धर्मशाला । मूर्खिस्तान
*******************
इस बार हमने सोचा । हम भी वैलैंटाइन डे मनायेंगे ।
अपनी मैडम को पिक्चर दिखायेंगे ।
हमारा भी दोस्तों में रुतबा बढेगा । घरेलू लडका फिर कोई नहीं कहेगा ।
बस कर लिये दो टिकट एडवांस में बुक ।
श्रीमती जी के चेहरे का देखने लायक था लुक ।
मुस्कुराते हुए बोली - कार्नर की ली है ना ।
हमने कहा - हाँ ! एक दाहिना एक बाहिना ।
तो हम भी पहुँच गये मैडम के संग ।
देखने सलमान की लेटेस्ट फिल्म दबंग ।
फिल्म देखने का मेरा पहला टैस्ट था ।
मैडम का सलमान में ज्यादा ही इंट्रेस्ट था ।
वो बाहर से तो हम पर मर रही थी ।
पर तारीफ सलमान की कर रही थी ।
फिल्म का जैसे ही हुआ इंटरवल । मैडम के माथे पर आ गये बल ।
गुस्से में बोली - आज के दिन भी भूखा मारोगे ।
जेब में रखे पैसों की क्या आरती उतारोगे ।
पूरा सिनेमा हाल हमें लानत भेज रहा था ।
फिल्म इंटरवल में हमारा ट्रेलर देख रहा था ।
हम फौरन कैंटीन की तरफ दौडे । ना ब्रैड दिखे ना पकौडे ।
चारों तरफ बस माल ही माल दिख रहा था ।
हर काउंटर पर पापकार्न और पिज्जा ही बिक रहा था ।
कुछ देर तक आँखें सेकीं और दिल ठंडा किया ।
फिर पत्नी के लिये एक ठंडा लिया ।
ठंडा लेकर हाल में जैसे ही पहुँचे । श्रीमती जी पिल पडी बिना कुछ सोचे । बडे प्यार से मुझे डांटकर बोली । अभी ठंडे की बोतल भी नहीं खोली ।
हम बोले - सलमान खान से ध्यान हटाओ ।
बोतल खुली है इस पर ध्यान लगाओ ।
ठंडा पीते ही मैडम गुर्राई । ये ठंडा है या गर्म मेरे भाई ?
अब तो कमाल हो गया । सलमान के सामने मैं भाई हो गया ।
मैंने चुपचाप से सारी का सहारा लिया ।
गर्म होते मामले का वहीं निपटारा किया ।
जैसे तैसे सलमान की दबंगई हुई खत्म ।
हमारे अंदर भी आ गया थोडा सा दम ।
पत्नी बोली - अब क्या दिलवाओगे ? हम बोले - अभी क्या दिलवाया है ?
वो बोली ज्यादा मजाक नहीं चलेगा । घर जाकर धोऊं या यहीं पिटेगा ?
हमने चुपचाप चुप्पी साध ली ।
सीधे अपने घर की राह ली । आज हमें एक शिक्षा मिली थी ।
वैलंटाईन हो या करवा चौथ । रक्षा बंधन हो या भैया दौज ।
सब प्यार मौहब्बत ही फैलाते हैं ।
और इनका मजा तब ही आता है । जब आप इन्हें घर पर ही मनाते है । घर पर ना होगी सलमान की दबंगाई । ना होगी बाजार में आपकी पिटाई । अज्ञात
*************
दीवाली पूर्व सूचना - कृपया आपके GF/BF के द्वारा दिए गए और आपके द्वारा छुपाये गए फोटो, प्रेमपत्र, उपहार या अन्य कोई चीज याद से निकाल लें । अन्यथा..घर की साफ सफाई करते समय यह आपके माँ पिता या पत्नी को मिल सकता है । और इस अवस्था में आपके घर में दीवाली से पहले ही पटाखे फूट सकते हैँ । सूचना जनहित मेँ जारी ।
धन्यवाद । Rajeev Reddy
*************
Settle down with me
Cover me up ..Cuddle me in 
Lie down with me.. ..Hold me in your arms 
Your heart's against my chest 
Lips pressed to my neck.. ..I've fallen for your eyes 
But they don't know me yet.
Ed Sheeran, Here I come !
*************
http://www.bbc.co.uk/news/world-europe-24705734 
एक टिप्पणी भेजें