28 मई 2016

चोर और पुजारी

किसी शिव मंदिर में नित्य एक पंडित और एक चोर आते थे । पंडित अत्यंत भक्तिभाव से शिवलिंग पर फल फूल और दूध चढ़ाकर पूजा करता था । वहीं बैठकर शिवस्तोत्र का पाठ करता और घंटों श्रद्धा से शिव का ध्यान करता । दूसरी ओर उसी शिव मंदिर में एक चोर भी प्रतिदिन आता था । वह आते ही शिवलिंग पर डंडे मारना शुरू कर देता और अपने भाग्य को कोसता हुआ भगवान को अपशब्द कहता । अपनी विपन्नता का सारा दोष वह भगवान शिव पर मढ़ता और उन्हें अन्यायी व पक्षपाती ठहराता ।
एक दिन पंडित और चोर साथ साथ ही मंदिर में आए और अपनी प्रतिदिन की प्रक्रिया दोहराई । काम भी दोनों का साथ ही खत्म हुआ और दोनों का साथ ही बाहर आना हुआ । तभी चोर को द्वार के बाहर सोने की अशर्फियों से भरी थैली मिली और पंडित के पैर में लोहे की कील से गहरा घाव हो गया ।
अशर्फियां मिलने से चोर को अत्यंत प्रसन्नता हुई, लेकिन पैर में गहरा घाव होने के कारण पंडित बड़ा दुखी हुआ और रोने लगा ।
तभी भगवान शिव वहां प्रकट हुए और पंडित से बोले - पंडितजी, आज के दिन आपके भाग्य में फांसी लगनी लिखी थी । किंतु मेरी पूजा करके अपने सत्कर्म से फांसी को आपने केवल एक गहरे घाव में बदल दिया । इस चोर को आज के दिन राजा बनकर राजसिंहासन पर बैठना था । किंतु इसके कर्मो ने इसे केवल स्वर्णमुद्रा का ही अधिकारी बनाया । जाओ अपना कर्म करो ।
वस्तुतः अपना भाग्य निर्माता मनुष्य स्वयं ही होता है । यदि वह अच्छे कर्म करेगा । तो सुपरिणाम के रूप में बेहतर भाग्य पाएगा । और दुष्कर्मो का फल दुर्भाग्य का पात्र बनाता है ।
एक टिप्पणी भेजें