18 मई 2016

कुत्ता शकुन

21वीं सदी में शकुन की बात करना पिछड़ापन सा अवश्य लगता है । किन्तु जो परम्परा और रिवाज हमारे समाज में शताब्दियों से चली आ रही है । वे वैज्ञानिक मान्यता के बिना भी अपना वजूद कायम रखे हैं । हमारे देश में ज्योतिष को बहुत महत्व दिया जाता है । किन्तु महिलाओं में ‘सूण-सायण’ एक अलग ही महत्व का शास्त्र है । त्यौहार की पूर्व सन्ध्या को मेहंदी लगाना । जिस दिन कन्या ससुराल जाए । उस दिन विदा करने के बाद कोई स्त्री सिर नहीं धोयेगी । ऐसे अनेक रिवाज हैं । जिनके पीछे कोई वैज्ञानिक तर्क नहीं है । किन्तु फिर भी वे प्रचलित हैं । इन रिवाजों-परम्पराओं की भाँति ही शगुन भी एक ऐसा ही शास्त्र है । जो ज्योतिष के सामुद्रिक शास्त्र का समवर्ती माना गया है । हम शगुन का शास्त्रीय स्वरुप ही जान पाते हैं । अशास्त्रीय अथवा ग्राम्य सिद्धान्त हमारे लिए सुलभ नहीं है । जबकि ये असंस्कृत सिद्धान्त भी व्यवहार सिद्ध हैं और निरन्तर के परीक्षण से प्रमाणित हैं ।
शकुन-शास्त्र के ज्ञाता ऋषियों ने लोक-ज्ञान को भी सम्मान देते हुए कहा है  - 
यं बुध्यते योऽस्ति च यत्र देशे यत्रानुरागो नुमवो थवा स्यात । 
अर्थात जिसे लोग जानते समझते हैं । जो जिस देश में हैं । जिसमें व्यक्ति या समाज का अनुराग है अथवा उसके निरन्तर परीक्षण अनुभव से किसी निश्चित परिणाम पर पहुँच सकते हैं । वे भी शकुन सार्थक रहते हैं । शकुन शास्त्री कहते हैं कि इस शास्त्र का उपदेश स्वयं त्रिनेत्र शंकर ने किया है । अतः शिव शकुन शास्त्र के उपदेष्टा रहे हैं और यह ज्ञान ऋषि परम्परा द्वारा पोषित परिवर्धित-परिमार्जित होता रहा है । इसके प्रवर्तकों में अत्रि, गर्ग, बृहस्पति, व्यास, शुक्राचार्य, वशिष्ठ, कौत्स, भृगु, गौतम आदि ऋषि प्रमुख रहे हैं । भविष्य का संसूचक होने के कारण यह शास्त्र ज्योतिष का ही उपांग बन गया है ।
शकुन शास्त्र हमारे समाज एवं क्रियाकलापों पर आधारित होता है । सामाजिक स्थिति, पशु-पक्षी आदि सभी इसके माध्यम हैं । कुत्ता सभी पालतू पशुओं में महत्वपूर्ण माना जाता है । वफादारी में इसका कोई सानी संसार में दूसरा नहीं है । कुत्ते का शकुन-शास्त्र में भी महत्वपूर्ण स्थान है ।
यहाँ प्रस्तुत है कुत्ते से जुड़े कुछ शकुन -
- बलि ग्रहण करने के बाद यदि कुत्ता दाहिने पैर से दाहिने अंग खुजाता है । तो उसका फल उत्तम रहता है । किन्तु यदि बाँये पैर से दाहिना अथवा बाँया अंग खुजलाता है । तो वह विपरीत फलदायक होता है ।
- यदि कुत्ता दाहिना पैर उठाकर किसी घड़े अथवा गागर पर पेशाब करता है । तो शकुनार्थी का अथवा उसके घर-परिवार में शीघ्र ही कोई विवाह होता है और दोनों का जीवन सुखी रहता है साथ ही उत्तम संतान का योग भी बनता है ।
- कन्या के विवाह अथवा विवाह की बात करते समय यदि कुत्ता बाँये अंग को फड़फड़ाता हुआ अंदर आता है । तो उस कन्या से विवाह नहीं करना चाहिए । क्योंकि वह दुराचारी होने के कारण परिवार को नष्ट करने वाली होती है ।
- यदि कुत्ता अपनी दाहिनी आँख खोलकर नाभि चाटता है और छत पर जाकर सोता है तो वर्षा आने की सम्भावना होती है ।
- वर्षा ऋतु में कुत्ता यदि वर्षा के जल में चक्कर लगाता है । तो तीव्र वृष्टि का सूचक है । किन्तु यदि अपने शरीर को कंपाकर सारा पानी झाड़ देता है । तो वर्षा अन्यत्र कहीं होती है ।
- ऊँची जगह पर चढ़कर सूरज को देखते हुए कुत्ता भौंकता है । तो अत्यन्त तीव्र वर्षा होती है ।
- कुत्ता यदि दाहिने अंग चाटता है, तो शुभ-सिद्धि की सूचना देता है ।
- यदि व्यक्ति परेशानी में कुत्ते का शकुन लेता है और कुत्ता उसके सामने विष्ठा कर देता है अथवा जम्हाई लेता है । तो उसका संकट टल जाता है । किन्तु शुभ परिस्थिति में ऐसा होता है । तो उसके लिए अशुभ होता है ।
- गर्भवती के दाहिने जाकर यदि कुत्ता अच्छे स्थान पर पेशाब करता है । तो पुत्र तथा बाँये पेशाब करता है । तो पुत्री होने के योग होते हैं ।
- व्यवसायी के दाहिने जाकर दाहिने पैर से दाहिने अंग खुजाता है । तो धन लाभ होता है ।
- नौकरी के लिए जाते व्यक्ति के दाहिने ओर यदि कुत्ता प्रसन्नता से खेलता मिले या पलंग, आसन, छाता आदि पर कुत्ता पेशाब करता है । तो नौकरी अवश्य मिलती है ।
- अपने ही स्थान पर बैठा रहकर यदि जाने वाले व्यक्ति को कुत्ता गर्दन उठाकर देखता है । तो शुभ होता है । किन्तु कान फड़फड़ाता है या गर्दन हिलाता है तो अशुभ होता है ।
- यात्रा पर जाने वाले व्यक्ति के सामने मुँह में हड्डी दबाकर आता कुत्ता और भौंकता कुत्ता घोर अशुभ की सूचना देता है ।
- कान या पूँछ कटा कुत्ता यदि बहुत कमजोर है और जाते हुए व्यक्ति को बारबार देखता है । तो बहुत अशुभ होता है ।
- कुत्ता पानी में नहाकर यदि अपने शरीर को फड़फड़ाता है । तो चोट की सूचना देता है ।
- यदि अनेक कुत्ते एक स्थान पर एकत्र होकर सूर्य की ओर देखकर भौंकते हैं । सिर हिलाते हैं । रोते हैं या वमन करते हैं । तो उस स्थान पर घोर विपदा आने वाली है ।
- कुत्ता पंजों से दरवाजा खुजाए अथवा दरवाजे पर बैठ जाए । तो कोई प्रियजन आता है ।
- कुत्ता दौड़कर आकर यदि खम्बे से लिपटता हो या चूल्हे पर चढ़ जाता है । तो कोई प्रियजन अवश्य आता है । 
- रहस्य ज्ञाताओं का मत है कि यदि कुत्ता धरती पर अपना सिर रगड़ता है । तो वहाँ धन गड़ा हो सकता है । 
- गोबर से लिपे-पुते चौक पर यदि कुत्ता जोड़ा केली करता है या रति-क्रिया करता है । तो विपुल धन की प्राप्ति होती है । इसके विपरीत यदि वह पैरों से गढ्ढा खोदता है । तो अनर्थ की सूचना देता है । 
- बीमार व्यक्ति के हाथ के पृष्ठ भाग को यदि कुत्ता चाटता है । तो उस व्यक्ति की मृत्यु निश्चित है ।
- रोगी के स्वस्थ होने के सम्बन्ध में प्रश्न करने पर यदि कुत्ता कानों को फड़फड़ाकर शरीर को फेर कर सोने जैसी मुद्रा बनाता है । तो रोगी की मृत्यु निश्चित है ।
- यात्रा पर जा रहे व्यक्ति के सामने कुत्ता हरी दूब, फल लेकर आता हो । तो मनोरथ पूर्ण हुआ मानना चाहिए ।
- यात्रा के समय ताजी खून से सनी हड्डी मुँह में लेकर कुत्ता सामने आता है । तो शुभ होता है । पुरानी हड्डी लेकर आता है । तो अशुभ होता है । 
- कुत्ता जूता मुँह में लेकर सामने आकर खड़ा हो जाता है । तो धन प्राप्ति होती है ।
**********
साभार - कापी पेस्ट ( अज्ञात )
एक टिप्पणी भेजें