04 अक्तूबर 2015

कलियुग में मोक्ष कैसे - पागल बाबा

सतनाम साहेब         सतनाम साहेब           सतनाम साहेब
कबीर साहिब के वचनों से कलियुग में मोक्ष उपाय
पागल बाबा द्वारा - मेरे मार्ग पर चलने के लिये आपको पूरी बात समझनी होगी । सिर्फ़ जीते जी मुक्ति है । मरने के बाद किसी ने कहा नहीं कि स्वर्ग में गया या नर्क में गया । इसका कोई पता नहीं चला ।
जहिया जन्म मुक्ता हता तहिया हता न कोय ।
छटी तुम्हारी हौं जगह, तू क्यों चला बिगोय । बीजक
- हे जीव तू मुक्त है । तेरे ऊपर कोई दूसरा कर्ता नहीं है । संसार में आकर के तेरे ऊपर बहुत से आवरण या गिलाफ़ चढ गये । काम क्रोध लोभ मोह अहंकार, मरने जीने का नर्क और स्वर्ग का ये तेरे सारे झूठे आवरण हैं । तू अजर अमर अविनाशी है ।
गीता में श्रीकृष्ण महाराज ने अर्जुन को समझाया है कि तुझे शस्त्र काट नहीं सकता । आग जला नहीं सकती । जल गला नहीं सकती । वायु सुखा नहीं सकती । फ़िर तुझे किसका भय है । तू अविनाशी मरने जीने वाला नहीं है ।
इसका उपाय श्रीकृष्ण ने अर्जुन से कहा है - तू किसी तत्वदर्शी सन्त के पास जा । दण्डवत प्रणाम कर । उसकी सेवा कर । सेवा करने पर प्रसन्न होकर तुझे तत्व का बोध करायेंगे । तेरे जन्म मरण का वो बन्धन छुङा देंगे । गीता में जीव मुक्त बताया है । और जिसका लोग भजन करते हैं । वो भी मुक्त बताया है । वो भी मरने  जीने वाला नहीं है । ये दोनों बनने बिगङने वाले नहीं हैं फ़िर भजन किसका ?
इस बात को समझें । लोग कहते हैं कि संसार किसी ने बनाया है । मैं कहता हूँ कि यदि संसार बनाया गया है । तो पहले बीज बना या वृक्ष ? ये अनादि है । किसी का बनाया हुआ नहीं है । पाँच तत्व छटवां जीव ( या बीज ) एक ही है । छह के अलावा जो कुछ भी दिखायी दे रहा है । सब बनने बिगङने वाला है ।
सदगुरु की पहचान - पहले गुरु को समझो । गुरु से सतसंग करो । गुरु से सतसंग करने से ही गुरुतत्व प्राप्त होगा । उसी को सदगुरु कहते हैं । सदगुरु देहधारी नहीं होता । गुरु देहधारी होता है । जब सदगुरु प्रकट हो जायेगा । तब तुम्हारे सब बन्धन छुट जायेंगे ।
कोई न काहू सुख दुख करि दाता । निज करि कर्म भोग सब भ्राता ।
फ़िर दूसरा कौन है । कौन कर सकता है ?
जीव दया और आतम पूजा । मुक्त उपाय और नहिं दूजा ।
तेरे पास दो मार्ग हैं - एक शुभ कर्म और एक अशुभ कर्म ।
सुमार्ग पर जायेगा । तो राम, कृष्ण, कबीर सी पूजा होगी । कुमार्ग पर कंस रावण जैसा विनाश होगा । अब तू दोनों मार्ग समझ । किस पर चलेगा ?
हम घर जारों आपना, लूका लीनों साथ, जो घर जारे आपना चले हमारे साथ ।
जो काम क्रोध, लोभ मोह अंहकार, को तोङ देगा । वही इस मार्ग पर पहुँचेगा ।
भक्ति का पहला मार्ग - मात पिता की सेवा, संसार से प्रेम, स्त्रियों के लिये सास ससुर की सेवा और पति को परमेश्वर मानना । बेटियों के लिये गुरु करने की आवश्यकता नहीं । अनसूया का कोई गुरु नहीं था । अपने पतिवृत धर्म से बृह्मा विष्णु शंकर को बालक बना दिया था ।
सत्यनाम - ये ज्ञान कबीर ने धर्मदास को कराया । वो ये ज्ञान है । राजा जनक ने शुकदेव को कराया । जनक को अष्टावक्र ने । श्रीकृष्ण ने अर्जुन को । सूर्य ने अपने पुत्र इच्छ्वाक को ।
जीव पर जब तक आवरण चढा है । तब तक जीव जीव है । आवरण हटने पर शिव हो जाता है ।
ज्ञान करने की विधि - पहले अनुलोम विलोम सुखासन पर बठकर । धीरे धीरे एक घन्टा चालीस मिनट करने पर आपको नासिका के अग्रभाग पर ध्यान को देना होगा । इतना होने के बाद फ़िर किसी तत्वदर्शी सन्त के पास जाना होगा । वो आपको पूर्ण ज्ञान करा देंगे । इससे आवागमन छुट जायेगा
**********
पिंडे सोई बृह्मांडे..बाहर सोई अन्दर, दोनों की जानकारी करने चाहते हो तो सम्पर्क करें । सभी मजहब व सभी संप्रदायों के लिये ।
शब्द की जानकारी, नाम की जानकारी, रुहानी मंडल की जानकारी, सारशब्द की जानकारी, दसवें द्वार की जानकारी, पाँच तत्वों की जानकारी, दस इन्द्रियों की जानकारी, कुन्डलिनी की  जानकारी, परमहंस की अवस्था, उनमुनी, बालवत, पिशाच, सुजान । अवस्थाओं की जानकारी, जाग्रत स्वपन सुषुप्ति, तुरीया, तुरीयातीत ।
इस बात को समझें । और अपनी मंजिल तक पहुँचे ।
रामायण का नाम - कहाँ लगि करिहों नाम बढाई । सके न राम नाम गुण गाई ।
नानक साहब का शब्द - शब्द हि धरनी शब्द अकाशा । शब्दई शब्द भयो प्रकाशा ।
सोई शब्द घट घट में आछे । सगली सृष्टि शब्द के पाछे ।
----------
मन को जानो, मन क्या है ?
पाँच तत्वों की पच्चीस प्रकृतियों के नाम और काम । पच्चीस प्रकृतियों पाँच देवताओं के वास । पाँच तत्वों के पाँच विषयों का निर्णय । पच्चीसों के विषय व चाल । पाँच मुद्राओं पाँच शब्दों का निर्णय ।
पाँच देह का कोष्ठक निर्णय । पाँच देह का न्यारा न्यारा अर्थ विवरण । मात्राओं के अर्थ । मात्रा अकार उकार मकार । नाम शब्द और मन की जानकारी के लिये फ़ोन पर जानें । और मार्ग पर पहुँचना है । तो स्वयं मिलें ।
- सन्त पागलदास
कैलाश मठ, पैरा मेडिकल के पास
नगला भाऊपुरा, सैफ़ई, इटावा ( उ.प्र )
संपर्क - 0 96340  76821
***********
नोट - लेख के तथ्य श्री पागल बाबा के कथनों पर आधारित है । ब्लाग की सहमति अनिवार्य नहीं ।
एक टिप्पणी भेजें