01 नवंबर 2013

क्योंकि Lata को उल्टा करने पर Atal होता है

Chart and Techniques for Hand Reflexology and Massage of Meridian points This Chart and Techniques for Hand Reflexology and Massage of Meridian points shows us where and how to use our own personal power and take charge of our health. Meridians are a set of pathways in the body along which vital energy is said to flow.. and massage and pressure to these points can open the flow of energy throughout our bodies.. and allow for healing and maintaining a healthy physical.. mental and energetic body. Technique You may use all these techniques in one session, or just one technique, e.g. Pressing, or two techniques, e.g. Rubbing and Pressing. 1. Rubbing: Begin by briskly rubbing your hands ( palms ) together to warm them up and generate energy (qi) in them. Also rub the back of each hand ( including fingers ) with the palm of the other hand. 2. Squeezing: Use your thumbpad and outside edge of your index finger to squeeze each finger and thumb on the other hand, one by one, from base to tip. Use firm but not painful pressure. Do this 2-3 times per finger/thumb. 3. Pulling: Use your thumbpad and the outside edge of your index finger to grasp the base of each finger and thumb on the other hand, one by one, then quickly pull down towards the tip while 

maintaining firm but not painful pressure. Do this 2-3 times per finger/thumb. 4. Pressing: Use the tip of your thumbnail to press and stimulate points on the opposite hand. Use this printable hand reflexology chart to locate common hand pressure points. Apply vertical pressure to each point with your thumbnail ( or sometimes your fingernail ) Press until you feel no more than a comfortable pain. Hold the pressure and knead the point with very small circular movements. Do this for 1-2 minutes per point. Repeat 1-2 times a day. Choosing Points for Pressing All hand pressure points are bilateral, i.e. they’re located on both hands. Generally, you would massage 3 or 4 points ( on both 

hands ), 1-2 times a day. Hand pressure points do adapt to stimulation though, so after 7 days stop for 3 or 4 days. If your condition and symptoms persist, continue for another week ( or more ) OR choose new points to press and rub. We haven’t personally tested the theory… but if it’s something we can do for ourselves… even during our lunch hour… We say why not give it a try ? 
Source: Chinese Holistic Health Exercises Originally posted on:
www.nurseland.net
https://www.facebook.com/photo.php?fbid=662768027100643&set=a.214615595249224.56258.100001023547078&type=1&theater
***************
http://fractalenlightenment.com/12086/artwork/unveiling-the-mystics-of-sacred-geometry
***************
लता मंगेशकर का कहना है कि - उनकी इच्छा है । मोदी प्रधानमंत्री बनें । मुझे पहले ही शक था कि - लता RSS 

एजेंट हैं । क्योंकि Lata को उल्टा करने पर Atal होता है - दिग्विजय सिंह Rahul Nitr
***************
ब्राह्मणोश्य मुखमासीद बाहु राजन्य: कृत: । उरु तदश्य यद्ववैश्य: पदभ्यां शूद्रो अजायत ।
इन्ही 4 प्रकार के कार्यो को वैदिक काल में 4 वर्णो में बाँटा गया था । जिन्हे वेद में 4 वर्ण कहा गया हैं । और इन 4 प्रकार के कार्यकलाप करने वाले 4 वर्ण के लोगो को क्रमश - ब्राह्मण । क्षत्रिय । वैश्य तथा शूद्र वर्ण के नाम से पुकारा गया । वेद पूरे समाज को 1 शरीर के रुप मे समझता और उपस्थित करता

है । सर्वांगीण शरीर में मुख्यतः 4 अंग हैं । जिनका मुख्य कार्य भी 4 प्रकार का होता है । 1 सिर । मस्तिष्क या मुख । दूसरा बाहु या भुजायें । तीसरा उदर । और चौथा पैर । मुख या मस्तिष्क शरीर में ज्ञान के आदान प्रदान का काम करता है । बाहु या भुजाऐं शरीर के विभिन्न अंगो की आवश्यकता के अनुसार उस भोजन के सार को सारे शरीर में बिना किसी भेदभाव के वितरण करने का काम कर सकता है । और पैर सारे शरीर को इधर उधर लाने ले जाने या श्रम करने का काम करते हैं । शरीर के इन अंगों में कोई ऊँच नीच का भेदभाव नहीं है । अपितु इन अंगों के काम करने का सामर्थ्य के अनुसार ये अंग अपना अपना काम स्वयं करते हैं । इसी प्रकार समाज भी 1 सर्वांगीण शरीर के रूप 

में है । और समाज में भी प्रमुख रूप में है । और समाज में भी प्रमुख रूप से यही 4 प्रकार के कार्यकलाप चलते हैं । इनमें ज्ञान के आदान प्रदान का काम करने वाले वर्ण को - ब्राह्मण । समाज और राष्ट्र की रक्षा करने वाले को - क्षत्रिय । कृषि, पशुपालन और व्यापार आदि अर्थव्यवस्था संबंधी काम करने वाले को - वैश्य । और समाज की अन्य सभी प्रकार की आवश्यकताओं की पूर्त्यर्थ काम करने वाले मानव वर्ण को शूद्र वर्ण से कहा गया है । समाज की इसी व्यवस्था को ऋग्वेद के प्रसिद्ध मंत्र में निरूपित किया है ।
https://www.facebook.com/photo.php?fbid=678801495472215&set=at.675662945786070.1073741827.675655572453474.1222773232&type=1&theater
***************
relations are like a book. it takes a few second to burn. but it takes years to write. Girish Aryan
***************

ॐ सह नाववतु सह नौ भुनक्तु सह वीर्यं करवावहै । तेजस्वि नावधीतमस्तु मां विद्विषावहै ।
- हम दोनों की रक्षा करो । हम दोनों का पालन करो । हम दोनों साथ में रहकर तेजस्वी दैवी कार्य करें । हम दोनों का किया हुआ अध्ययन तेजस्वी और दैवी हो । और हम दोनों परस्पर एक दूसरे का द्वेष न करें ।
***************
https://www.facebook.com/photo.php?fbid=10201837163984096&set=a.2660461544093.2135285.1032545170&type=1&theater
***************
https://www.facebook.com/photo.php?fbid=176566315871072&set=a.112231468971224.1073741826.100005531142907&type=1&theater
***************
http://www.youtube.com/watch?v=Gy6KbVhTUuE&feature=youtu.be
***************
दोस्तो ! आज मैं मेरी देश की नाजायज औलादों का इतिहास आपको बताता हूँ । कांग्रेस को मुस्लिमों से प्यार क्यों है ? कांग्रेस का जन्म - आज से 132 साल पहले अफगानिस्तान के गाजी खान ने अंग्रेज़ो के साथ मिलकर

पार्टी बनाई थी । गाजी खान के 3 लड़के थे । सबसे बड़ा - फ़ैजल खान । उसके बाद - सलीम खान । और सबसे छोटा - मोइन खान ( मोतीलाल नेहरू ) फ़ैजल खान 1 बीमारी की वजह से 14 साल की उम्र में ही मर गया । सलीम खान शादी के बाद कश्मीर में रहने लगा । उसी सलीम खान का वंशज की औलाद आज कश्मीर में फ़ारुख अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला है । जो कांग्रेस के साथ है । अब बात आती है - हाजी खान की । हाजी खान ने चुनाव लड़ा । पर कभी जीता नहीं । हाजी खान के मरने के बाद मोइन खान ने हिन्दू धर्म अपना लिया । और मोतीलाल नेहरू बन गया । पर वो भी कभी चुनाव नहीं जीता । उसके बाद मोतीलाल की औलाद नेहरू ने जिन्ना ओर गांधी के साथ मिलकर रणनीति बनाई । जब अंग्रेज़ 1947 में देश छोड़ रहे थे । जिन्ना को पाकिस्तान का पी एम बनाया जाएगा । और नेहरु को इंडिया का पी एम बनाया जाएगा । पर जनता सरदार पटेल को पी एम बनाना चाहती थी । पर गांधी ने नेहरू का साथ दिया । और नेहरू को पी एम बना दिया । फिर नेहरू की बेटी इंदिरा । जो फिरोज खान से निकाह किया था । फिर वो मुसलमान बन गए । पर गांधी ने इंदिरा को अपना नाम दे दिया । उसी दिन से ये मुल्ले गांधी का नाम लगाकर देश को लूट रहे है । फिरोज खान के बाद राजीव खान । राजीव खान के बाद सोनिया खान । सोनिया खान के बाद अब राहुल खान । इस पोस्ट को इतना शेयर करो दोस्तो कि इस नकली गांधी परिवार का सच पूरे देश को पता चले । जो अपने खानदान को त्याग और बलिदान का खानदान बताते हैं । वन्दे मातरम । द्वारा Anurag Goel
***************
ये सारी करामात टी वी के आकर्षण की है । टी वी का आविष्कार लोगों को गुलाम बनाकर रखने के लिए किया गया था । ये 1 ऐसी मशीन है । जो आपके " क्रिटिकल थिंकिंग " वाले लेफ्ट ब्रेन को निष्क्रिय कर देती है । ताकि आप जो देखें । उसके लिए submissive response ही दें । राजीव भाई ने ये बहुत अच्छी तरह से समझाया है । Vatsal Anand
http://www.youtube.com/watch?v=OdCVRsj38vY
***************
http://herbalsatt.blogspot.com/2011/01/19-arjuna.html
***************
https://www.facebook.com/photo.php?fbid=536387226447691&set=a.313338668752549.73826.313312622088487&type=1&theater
***************
https://www.facebook.com/media/set/?set=a.161942117293117.38101.161341684019827&type=1
एक टिप्पणी भेजें