10 सितंबर 2013

मुसलमान हूँ पुनर्जन्म की बात नहीं कर पाता हूँ

गूंगी चीख - अमेरिका में सन 1984 में एक सम्मेलन हुआ । इस सम्मेलन के एक प्रतिनिधि ने डॉ॰ बर्नार्ड नेथेनसन के द्वारा गर्भपात की बनायी गयी एक अल्ट्रासाउण्ड फिल्म " साइलेण्ट स्क्रीम " ( गूँगी चीख ) का जो विवरण दिया था । वह इस प्रकार है - गर्भ की वह मासूम बच्ची अभी दस सप्ताह की थी । व काफी चुस्त थी । हम उसे अपनी माँ की कोख में खेलते, करवट बदलते व अंगूठा चूसते हुए देख रहे थे । उसके दिल की धड़कनों को भी हम देख पा रहे थे । और वह उस समय 120 की साधारण गति से धड़क रहा था । सब कुछ बिलकुल सामान्य था । किन्तु जैसे ही पहले औजार ( सक्सन पम्प ) ने गर्भाशय की दीवार को छुआ । वह मासूम बच्ची डर से एकदम घूमकर सिकुड़ गयी । और उसके दिल

की धड़कन काफी बढ़ गयी । हालांकि अभी तक किसी औजार ने बच्ची को छुआ तक भी नहीँ था । लेकिन उसे अनुभव हो गया था कि कोई चीज उसके आरामगाह, उसके सुरक्षित क्षेत्र पर हमला करने का प्रयत्न कर रही है । हम दहशत से भरे यह देख रहे थे कि किस तरह वह औजार उस नन्ही मुन्नी मासूम गुड़िया सी बच्ची के टुकड़े टुकड़े कर रहा था । पहले कमर, फिर पैर आदि के टुकड़े ऐसे काटे जा रहे थे । जैसे वह जीवित प्राणी न होकर कोई गाजर मूली हो । और वह बच्ची दर्द से छटपटाती हुई । सिकुड़ कर घूम घूमकर तड़पती हुई इस हत्यारे औजार से बचने का प्रयत्न कर रही थी । वह इस बुरी तरह डर गयी थी कि एक समय उसके दिल की धड़कन 200 तक पहुँच गयी । मैने स्वयं अपनी आँखों से उसको अपना सिर पीछे झटकते व मुँह खोलकर चीखने का प्रयत्न करते हुए देखा । जिसे डॉ॰ नेथेनसन ने उचित ही " गूँगी चीख " या मूक पुकार कहा है । अंत में हमने वह नृशंस व वीभत्स दृश्य भी देखा । जब सँडसी उसकी खोपड़ी को तोड़ने के लिए तलाश रही थी । और 

फिर दबाकर उस कठोर खोपड़ी को तोड़ रही थी । क्योंकि सिर का वह भाग बगैर तोड़े सक्शन ट्यूब के माध्यम से बाहर नहीं निकाला जा सकता था । हत्या के इस वीभत्स खेल को सम्पन्न करने में करीब पन्द्रह मिनट का समय लगा । और इसके दर्दनाक दृश्य का अनुमान इससे अधिक और कैसे लगाया जा सकता है कि जिस डॉक्टर ने यह गर्भपात किया था । और जिसने मात्र कौतूहल वश इसकी फिल्म बनवा ली थी । उसने जब स्वयं इस फिल्म को देखा । तो वह अपना क्लीनिक छोड़कर चला गया । और फिर वापस नहीँ आया । गीता प्रेस से प्रकाशित " गर्भपात " नामक पुस्तक से ।
ऊपर विवरण का वीडियो देखने हेतु क्लिक करें ।
http://www.youtube.com/watch?v=gON-8PP6zgQ&feature=youtu.be
***********
एक टाइम था । जब Bill Gates ने  American bank से 10 0000 Lacs $ का loan माँगा था । but American bank ने वो Laon refuse कर दिया था । और 2001 में Bill gates ने वो bank ही खरीद लिया । 

******************
People used to ask me - What will happen after life ?  What will happen after death ?
And I used to say to them - Whatever is happening before death, the same will continue. Are you blissful today ?  because tomorrow will be born out of today. Today is pregnant with your whole future. OSHO
*********
एक बार एक हाथी था । उसके सामने 12 केले थे । उसने 11 खाये । 1 नही खाया । पूछो क्यों ? क्योंकि 1 केला प्लास्टिक का था ।

- चलो एक और । इस बार भी हाथी था । फिर से 12 केले असली थे । उसने एक भी नहीं खाया । पूछो क्यों ? इस बार हाथी प्लास्टिक का था ।
- चलो एक और । इस समय हाथी भी असली था । और असली 12 केले थे । उसने एक भी नहीं खाया । पूछो क्यों ? क्योंकि केले TV मेँ थे ।
- चलो एक और । इस बार भी असली हाथी और असली केले थे । फिर भी नहीं खाये । पूछो क्यों ? दोनों अलग अलग चैनल पर थे ।
- एक और । हाथी भी असली । केले भी असली । दोनों एक ही चैनल पर थे । फिर भी उसने नहीं खाये । पूछो क्यों ? क्योंकि TV बन्द था । - पों पों पों पों । masoom shaan
********
अशफ़ाक उल्ला खान ने कहा ।
जी करता है मैं भी कह दूँ पर मजहब से बंध जाता हूँ । मैं मुसलमान हूँ पुनर्जन्म की बात नहीं कर पाता हूँ ।
हाँ खुदा अगर मिल गया कहीं अपनी झोली फैला दूँगा । और जन्नत के बदले उससे यक पुनर्जन्म ही माँगूंगा ।
***********
मोदी - मेरे साथ संघ है । भाजपा है । पूरे देश की जनता है । तेरे ( कांग्रेस ) पास क्या है ?
कांग्रेस - ( राहुल की माँ ) मेरे साथ है ना ।
**********

कुरआन कहती है - मुसलमान बनो । बाइबिल कहती है - ईसाई बनो ।  पर वेद कहते हैं - मनुर्भव अर्थात मनुष्य बनो ।
**********
विश्व हिंदू परिषद के धर्म प्रसार विभाग द्वारा नार्थ ईस्ट के 103 गाँवोँ मेँ 1728 ईसाईयोँ को फिर से हिन्दुत्व मेँ लाया गया है । वही दक्षिणी तमिलनाडू के तिरुनेलवल्ली मेँ भी 350 ईसाईयोँ की हिन्दू धर्म मेँ वापसी हुई है । इस महीने आंध्रप्रदेश , त्रिपुरा , काशी प्रान्त से भी ईसाईयोँ की फिर से हिन्दू धर्म मेँ वापसी हुई है । साभार - हिन्दू विश्व ( विहिप का मुखपत्र )
********
वडहंसु महला 3
इहु सरीरु जजरी है इस नो जरु पहुचै आए ।
गुरि राखे से उबरे होरु मरि जमै आवै जाए ।
This body is frail; old age is overtaking it. Those who are protected by the Guru are saved, while others die, to be reincarnated; they continue coming and going.

एक टिप्पणी भेजें