27 अगस्त 2013

जानू जान डार्लिंग या रिचार्ज वाले भैया ?

एक लड़की अपने ब्वॉय फ्रेंड के साथ एक रेस्टोरेंट में लंच पर गई ।
खाने का आर्डर देने के बाद लड़की ने वॉश रूम की तरफ इशारा करते हुए अपने ब्वॉय फ्रेंड से कहा - एक्सक्यूज़ मी ! और वॉश रूम की तरफ चल पड़ी । उसके जाने के बाद लड़के ने देखा कि वह अपना मोबाइल टेबल पर ही छोड़ गई है ।
लड़के ने सोचा - देखता हूं कि इनसे मेरा नंबर कौन से नाम से सेव किया है । जानू ? जान ? डार्लिंग या कुछ और ?
जैसे ही लड़के ने अपनी गर्ल फ्रेंड के मोबाइल से अपना नंबर डायल किया । स्क्रीन पर नाम आया - रिचार्ज वाले भैया ।
*********
लड़ाई के बदलते तरीके ।
1980 - घर से बाहर आ फिर देखता हूँ ।
1990 -  एक बार मेरे इलाके में आ..अपने इलाके में तो कुत्ता भी शेर होता है ।
2000 -  फोन पे शेर मत बन..सामना कर तो बताता हूँ ।
2013 -  तू फेसबुक पे मिल साले .तेरी वाल पे ऐसे ऐसे कमेन्ट मारूंगा कि अकाउंट ही डिलीट कर देगा ।
साभार मूर्ख shaan फ़ेसबुक पेज

*********
एक लेख का महत्वपूर्ण अंश - अब अंत में मैं ऐसे आविष्कार का लिंक दे रहा हूँ । जिसे आप आसानी से पेट्रोल डीज़ल की निर्भरता खत्म कर केवल पानी के विघटन से उत्पन्न उर्जा से अपनी कार बाईक चला सकते है । इस ई-पुस्तक को डाउनलोड कर ध्यान से पढ़िए । मुझे विश्वास है । इस यंत्र को आप आसानी से बना लेंगे । इस आविष्कारक की हत्या कर दी गयी थी । और उसके शोध में मिलावट कर दी गयी थी । ताकि नतीजा गलत

आये । और आप न बना पाए । लेकिन उसका ओरिजिनल नोट लीक हो गया है । और कुछ दूरदर्शी लोगों ने इसे आम आदमी को आसानी से समझ में आने के लिए विस्तार पूर्वक लिखा है । उन वैज्ञानिकों का धन्यवाद ।

http://thepiratebay.sx/torrent/4266059/HHO_run_your_car_on_water
इस दूसरे लिंक में वीडियो को अन क्लिक करिये ( डाउनलोड मत करिये ) सिर्फ बीस पच्चीस एम बी की पुस्तकें डाउनलोड होगी ।
https://thepiratebay.sx/torrent/4619548/Free_energy__hho_gas_blue_prints__all_real_data_


साभार नरेश आर्य फ़ेसबुक पेज
*************
अलग अलग तरह के मोबाइल- ( केवल व्यंग्य )
मनमोहन सिंह - हमेशा सायलेन्ट मोड में ही रहता है ।
राहुल गाँधी - हमेशा कवरेज क्षेत्र के बाहर रहता है ।
चिदंबरम - कितना भी रीचार्ज कराओ । साला बेलेन्स ही नहीं दिखाता ।
दिग्विजय - हमेशा बकवास काल आती रहती है ।

मनीष तिवारी - सिर्फ राँग नम्बर ही लगता है ।
एन्टोनी ( रक्षा मंत्री ) - इसमें सिक्योरटी लाक ही नहीं है ।
शिन्दे - कोइ नेटवर्क ही नहीं आता ।
जायसवाल ( कोयला मंत्री ) - कोई भी फाइल डालो । डिलीट ही हो जाती है ।
अजय माकन- काल आये न आये । रिंगटोन बजती है ।
सोनिया - इसका तो key Pad लाक ही नहीं खुलता । यूज़ करें । तो कैसे ?
साभार - Satyendra Verma Sunny posted to HINDUTWA UNITES INDIA फ़ेसबुक पेज
************
एक शराब फेक्टरी में शराब टेस्ट करने वाला छुट्टी पर चला गया  । और फेक्टरी के मालिक को एक नए आदमी की तलाश थी । जो शराब टेस्ट करने का काम बखूबी कर सके । एक दिन उसका एक कर्मचारी किसी पियक्कड को पकड़ लाया । और बोला - सर ! इसके टेस्टिंग स्किल की सभी बहुत तारीफ़ करते हैं । इसे रख लीजिए ।
शराब फेक्टरी के मालिक ने देखा कि वो आदमी बहुत ही गंदा और
बदबूदार था । और वो उसे रखना नहीं चाहता था ।
फिर भी उसने एक वाइन उसे चखने के लिए दी । चखते ही पियक्कड बोला - ये रेड वाइन है । नोर्थ अमेरिका में बनी है । तीन साल पुरानी है । और इसे लकड़ी के बॉक्स में मेच्योर किया गया है ।
फेक्टरी के मालिक की आंखें खुली की खुली रह गयी । क्योंकि पियक्कड ने एकदम सही पहचान की थी उस शराब की । उसको उसने एक एक करके बीस तरह की शराब पिलाई । और उसने एकदम सही जवाब दिया । पर फेक्टरी के मालिक को उसके शरीर से आ रही बदबू बहुत परेशान कर रही थी । और उसने अपनी सेक्रेटरी को बुलाया । और कहा - मैं इसे फेल करके नौकरी नहीं देना चाहता । कोई उपाय बताओ ।
सेक्रेटरी ने कहा - सर मैं अपना urine एक गिलास में लेकर आती हूँ । और इसे पीने के लिए देती हूँ । और आपको इसे न रखने का बहाना मिल जाएगा । पियक्कड उसे पीते ही बोला - उमृ छब्बीस साल । प्रेग्नेंट है । तीन महीने हो चुके हैं । और अगर नौकरी नहीं दी । तो ये भी बता दूंगा कि - बच्चे का बाप कौन है ??
यह सुनते ही फैक्ट्री के मालिक और उसकी सेक्रेटरी बेहोश हो गए ।
साभार मूर्ख shaan फ़ेसबुक पेज
************
संता समुद्र में दही डाल रहा था । बंता - क्या कर रहा है ?
संता - लस्सी बना रहा हूँ ।
बंता - ये क्या पागलपन है । तेरी ऐसी हरकतों से ही लोग हम पर joke बनाते हैं । अब बता ...इतनी सारी लस्सी कौन पियेगा ?
************
एक बार रेलवे स्टेशन पर एक वृद्ध सज्जन बैठे रेल का इंतजार कर रहे थे । वहां संता जी आए । और उन वृद्ध आदमी से पूछा ।
संता - अंकल ! टाइम क्या हुआ है ? वृद्ध सज्जन – मुझे नहीं मालूम ?
संता - लेकिन आपके हाथ में घडी तो है । प्लीज बता दीजिए । न कितने बजे हैं ?
वृद्ध सज्जन - मैं नहीं बताऊंगा । संता – पर क्यों ?
वृद्ध सज्जन - क्योंकि अगर मैं तुम्हे टाइम बता दूंगा । तो तुम मुझे थैंक्यू बोलोगे । और अपना नाम बताओगे । फिर तुम मेरा नाम 
काम आदि पूछोगे । फिर संभव है । हम लोग आपस में और भी बातचीत करने लगें । हम दोनों में जान पहचान हो जायेगी । तो हो सकता है कि ट्रेन आने पर तुम मेरी बगल वाली सीट पर ही बैठ
जाओ । फिर हो सकता है कि तुम भी उसी स्टेशन पर उतरो । जहाँ मुझे उतरना है । वहाँ मेरी बेटी..जो कि बहुत सुन्दर है । मुझे लेने स्टेशन आयेगी । तुम मेरे साथ ही होगे । तो निश्चित ही उसे देखोगे । वह भी तुम्हें देखेगी । हो सकता है । तुम दोनों एक दूसरे को दिल दे बैठो । और शादी करने की जिद करने लगो । इसलिए भाई ! मुझे माफ
करो । मैं ऐसा कंगाल दामाद नहीं चाहता । जिसके पास टाइम देखने के
लिए अपनी घडी तक नहीं है ।
साभार मूर्ख shaan फ़ेसबुक पेज
एक टिप्पणी भेजें