19 अगस्त 2013

चिलमिल की चूँ...बता के हो सै ?

मोबाइल से जुडी कई ऐसी बातें । जिनके बारे में हमें जानकारी नहीं होती । लेकिन मुसीबत के वक्त यह मददगार साबित होती है ।
इमरजेंसी नंबर - दुनिया भर में मोबाइल का इमरजेंसी नंबर 112 है । अगर आप मोबाइल की कवरेज एरिया से बाहर हैं । तो 112 नंबर द्वारा आप उस क्षेत्र के नेटवर्क को सर्च कर लें । ख़ास बात यह है कि यह नंबर तब भी काम करता है । जब आपका की पैड लाक हो ।
जान अभी बाकी है - मोबाइल जब बैटरी लो दिखाए और उस दौरान जरूरी कॉल करनी हो । ऐसे में आप *3370# डायल करें । आपका मोबाइल फिर से चालू हो जायेगा । और आपका सेलफोन बैटरी में 50 प्रतिशत का इजाफा दिखायेगा । मोबाइल का यह रिजर्व दोबारा चार्ज
हो जायेगा । जब आप अगली बार मोबाइल को हमेशा की तरह चार्ज
करेंगे ।
मोबाइल चोरी होने पर - मोबाइल फोन चोरी होने की स्थिति में सबसे पहले जरूरत होती है । फोन को निष्क्रिय करने की । ताकि चोर उसका दुरुपयोग न कर सके । । अपने फोन के सीरियल नंबर को चेक करने के लिए *#06# दबाएँ । इसे दबाते ही आपकी स्क्रीन पर 15 डिजिट का कोड नंबर आयेगा । इसे नोट कर लें । और किसी सुरक्षित स्थान पर रखें । जब आपका फोन खो जाए । उस दौरान अपने सर्विस प्रोवाइडर को ये कोड देंगे । तो वह आपके हैण्ड सेट को ब्लोक कर देगा ।

कार की चाभी खोने पर - अगर आपकी कार की रिमोट केलेस इंट्री है
और गलती से आपकी चाभी कार में बंद रह गयी है । और दूसरी चाभी घर पर है । तो आपका मोबाइल काम आ सकता है । घर में किसी व्यक्ति के मोबाइल फोन पर कॉल करें । घर में बैठे व्यक्ति से कहें कि वह अपने मोबाइल को होल्ड रखकर कार की चाभी के पास ले जाएँ । और चाभी के अनलॉक बटन को दबायें । साथ ही आप अपने मोबाइल फोन को कार के दरवाजे के पास रखें । दरवाजा खुल जायेगा ।
है न विचित्र किन्तु सत्य ?
साभार - True Indian's फ़ेसबुक
**********
एक बे गोधू कलकता घुम्मन गया । हावड़ा तें सियालदा आली ट्रेन में बैठ ग्या । ऊसके सामी एक बंगाली दादा भी बेठा था । बंगाली दादा नै सोची अक सफ़र भी कट ज्या गा । और किम्मे पिस्से भी बन ज्यागे । ईस मोलड नै ठग लू ।
माड़ी - मोटि बात कर कें वो बंगाली गोधू तें बोल्या - अक में तेरे तें एक सवाल बुझुगा । ज तन्ने जवाब ना आया । तो तू मन्ने 100 रपिये दिए । फेर तू मेरे तें सवाल बूझिये । मन्ने ना आया । तो में तन्ने 1000  रपिये दूंगा ।
गोधू तय्यार होग्या ।
बंगाली दादा - गेटवे ऑफ़ इंडिया कहा है ।
गोधू - दिल्ली में ।
बंगाली दादा - गलत ,मुंबई में हे । ला दे 100 रपिये ।
गोधू ने 100 रपिये दे दिए ।
अब गोधू की बारी थी सवाल बुझ्न की ।
गोधू - चिलमिल की चूँ , बता के हो सै ।
बंगाली दादा - थोड़ी वार सोच के हार मान ले स वो गोधू तै नु बोल्या ये ले 1000  रपिये , मन्ने कोणी बेरा, तू बता ।
गोधू - ये ले 100  रपिये ,बेरा मन्ने भी को ।
साभार masoom shaan फ़ेस बुक
*********
शादी के बाद पत्नी कैसे बदलती है । जरा गौर कीजिए ।
पहले साल - मैंने कहा जी ! खाना खा लीजिए । आपने काफी देर से कुछ खाया नहीं ।
दूसरे साल - जी ! खाना तैयार है । लगा दूँ ।
तीसरे साल - खाना बन चुका है । जब खाना हो । तब बता देना ।
चौथे साल - खाना बनाकर रख दिया है । मैं बाजार जा रही हूं । खुद
ही निकालकर खा लेना ।
पांचवे साल - मैं कहती हूँ । आज मुझसे खाना नहीं बनेगा । होटल से ले आओ ।
साभार Prem Lohana फ़ेसबुक
एक टिप्पणी भेजें