30 जुलाई 2012

जबकि 99% हिन्दू कहते हैं कि वो सेकुलर हैं


जय गुरुदेव ! मैंने प्रलय 2012 के आपके ब्लाग पढे हैं । science की छोङो । आप बताओ कि december 2012 में प्रलय होगी । या नहीं । जो होना है । वो तो अटल सत्य है । फ़िर भी मेरी जिज्ञासा का समाधान करें । एक पाठक की टिप्पणी on लेख - काल पुरुष ने आत्मा को 84 लाख योनियों मे कैसे डाला ? पर ।
--ooo--
जब कभी इस दुनिया की सबसे नपुंसक कौम का इतिहास पढाया जायेगा । जब कभी इस दुनिया में किसी की नामर्दी के चुटकुले सुनाये जायेंगे । तो उसमें सबसे आगे हिन्दू सेकुलरों का नाम होगा । इस दुनिया में 99% मुल्ला चीख चीख कर कहता है कि - वो सेकुलर नाम का कोढ़ी नहीं है । और उसका इस्लाम सबसे महान है । इसी दुनिया के 99% ईसाई डंके की चोट पर कहने को तैयार हैं कि - वो सेकुलर नहीं हैं । और ईसाई ही दुनिया के राजा हैं । पर उसी दुनिया में 99% हिन्दू ये कहते हैं कि - वो सेकुलर हैं । और सब धर्म समान हैं । वाह रे हिन्दू । ये पुण्य है । हमारे पूर्वज राणा प्रताप और शिवाजी का । और ये सतकर्म हैं । हमारे वर्तमान दुर्गा रुपी साध्वी

प्रज्ञा और राम रुपी कर्नल पुरोहित का । वरना अब तक तुम्हारी मूछों की शान मानी जाने वाली तुम्हारे घर की औरतें लश्कर ए तोइबा के अड्डों पर मुजरा कर रही होती । और तुम उसमें तबला बजा रहे होते ।
मैं साबित करता हूँ कि - तुम हि..ड़े कैसे हो ? और अगर मैं गलत हूँ । तो तुम खुद को मर्द । और मुझे हिजड़ा साबित करो ।
1 पूरी दुनिया के सामने TV में Live लोगों की लाशें बिछाता अजमल कसाब जिसके लिए किसी भी सबूत की कोई जरूरत नहीं है । जिसका सबूत देश का हर वो नागरिक है । जिसके घर में TV है । पर वो जेल में बिरयानी खाकर उसके बचे टुकड़े तुम हिन्दुओं के मुँह पर फेंक रहा है । और वही दूसरी तरफ हमारी देवी प्रज्ञा जिसका 4 बार नार्को टेस्ट हुआ । और वो हर बार निर्दोष पायी गयी । इस 


पूरे हिन्दुस्तान में 1 भी गवाह या सबूत नहीं उसके खिलाफ । फिर भी वो आज जेल में अपनी जिंदगी की आखिरी सांस ले रही है । मैं बताता हूँ । ऐसा क्यों । क्योंकि तुम नामर्द हो ।
2 जिस अफज़ल गुरु ने देश के ह्रदय संसद पर हमला किया । और उसको सुप्रीम कोर्ट ने 2 बार फांसी पर चढ़ा देने का आदेश दिया । पर आज तक वो अपनी वो जिंदगी 5 ***** तिहाड़ में बिता रहा । जो उनसे अपनी कमाई पर सोची भी नहीं थी । पर वही दूसरी तरफ हमारे कर्नल पुरोहित जिसको सेना ने भी साफ़ क्लीन चिट दे दी है । उनको जेल में रख कर हर पल मौत दी जा रही है । मैं बताता हु क्यों । क्योंकि तुम नामर्द हो ।
3 कश्मीर में शायद ही कोई दिन हो । जब किसी हिन्दू का सर ना काटा जाता हो । पर उमर अब्दुल्ला या फारुख अब्दुल्ला मुर्दाबाद का नारा तो दूर । कोई हिन्दू उनका नाम भी नहीं जनता होगा । पर गुजरात के नरेन्द्र मोदी मुर्दाबाद का नारा मुस्लिम बच्चों को पेट से सिखा कर पैदा किया जा रहा है । मैं बताता हूँ । ऐसा क्यों । क्योंकि तुम नामर्द हो ।
4 अगर हिन्दू होने के कारण अरविन्द केजरीवाल संसद में बैठे कुछ गिने चुने चोरों की असलियत बताने के कारण गुनहगार हो गए । तो उसी संसद को AK 47 से भून देने वाला अफज़ल गुरु उस देश का सरकारी दामाद क्यों ? जिस देश में 90 करोड़ हिन्दू रहते हैं । मैं बताता हूँ । ऐसा क्यों । क्योंकि तुम नामर्द हो ।
- जो भी हिन्दू अपने आपको मर्द मानता हो । वो आकर इसका जवाब दे । मैं खुली चुनौती दे रहा । भारत के हर हिन्दू को । यहाँ तक की खुद को भी । हे प्रज्ञा ! हे पुरोहित ! हमें माफ़ करना ।
साभार - http://www.facebook.com/photo.php?fbid=266578070121371&set=a.213501212095724.44871.207580332687812&type=1&theater ( क्लिक करें )
--ooo--       
Often we can't feel a sense of the Divine because we don't let ourselves alone . I believe in a spirituality of radical non-self-interference . If we can just let ourselves be then we will find that in that act of acceptance that there is something really subversive . There is nothing as radical and subversive as an act of acceptance... Sometimes when we call off our search and our hunger for God, it is then that we allow ourselves to be found by the Divine...God is not lost from us...It is rather that we are so often lost and exiled from ourselves and when we call a halt to that search then we find that unknown to ourselves we've already been resting in the tender embrace of God's lovely presence .”John O' Donahue "
साभार - http://www.facebook.com/photo.php?fbid=502926229734185&set=a.414831998543609.114567.414764241883718&type=1&theater ( क्लिक करें )
एक टिप्पणी भेजें