23 अक्तूबर 2011

समाधि का अर्थ 2

सम्यक तर्क ले जाता है - सम्यक अनुचितन की तरफ । सम्यक अनुचितन ले जाता है - आनंदमयी अवस्था की तरफ । और यह आनंदपूर्ण अवस्थाले जाती है - विशुद्ध अंतस सत्ता की अवस्था में ।
1 नकारात्मक मन हमेशा अहंकारी होता है । यह है अंतस सत्ता की अशुद्ध अवस्था । तुम अनुभव करते हो - मैं  को । लेकिन तुम " मैं " का अनुभव गलत कारणों से करते हो । जरा ध्यान देना । अहंकार " नहीं " पर पलता है । जब कभी तुम कहते हो - नहीं । अहंकार उठ खडा होता है । जब कभी तुम हां कहते हो । अहंकार नहीं उठ सकता । क्योंकि अहंकार संघर्ष चाहता है । अहंकार चाहता है - चुनौती । अहंकार स्वयं को किसी के विरुद्ध रख देना चाहता है । किसी चीज के विरुद्ध । यह अकेला नहीं बना रह सकता है । इसे द्वैत चाहिए । 1 अहंकारी हमेशा संघर्ष की तलाश में रहता है । किसी के साथ । किसी चीज के साथ । किसी परिस्थिति के साथ का संघर्ष । वह हमेशा किसी चीज को खोज रहा है न कहने को । जीतने को । उसे विजित करने को ।
अहंकार हिंसक होता है । और " नहीं " 1 सूक्ष्मतम हिंसा है । जब तुम साधारण चीजों के प्रति भी नहीं कहते हो । वहां भी अहंकार उठ खडा होता है ।
1 छोटा बच्चा मां से कहता है - क्या मैं बाहर खेलने जा सकता हूं ? और वह कहती है - नहीं । कुछ बड़ी उलझन न थी । लेकिन जब मां कहती है - नहीं । तो वह अनुभव करती है कि - वह कुछ है ।
तुम रेलवे स्टेशन पर जाते हो । और तुम टिकट के लिए पूछते हो । क्लर्क तुम्हारी तरफ बिलकुल नहीं देखता । वह काम करता जाता है । चाहे कोई काम न भी हो । वह कह रहा है - नहीं । ठहरो । वह अनुभव करता है कि वह कुछ है । वह कोई है । इसलिए दफ्तरों में हर कहीं, तुम नहीं सुनोगे । हां बहुत कम है । बहुत दुर्लभ । 1 साधारण क्लर्क किसी को नहीं कह सकता है । तुम कौन हो ? इसका महत्व नहीं । वह शक्तिशाली महसूस करता है ।
नहीं कह देना तुम्हें ताकत की अनुभूति देता है । इसे याद रखना । जब तक यह बिलकुल आवश्यक ही न हो । हरगिज नहीं मत कहना । अगर यह बिलकुल आवश्यक भी हो । तो इसे इतने स्वीकारात्मक ढंग से कहो कि - अहंकार खड़ा न हो । तुम ऐसा कह सकते हो । नहीं भी इस ढंग से कहा जा सकता है कि यह हां की भांति लगता है । तुम इस ढंग से ही कह सकते हो कि यह नहीं की भांति लगता है । यह बात भाव भंगिमा पर निर्भर करती है । अभिवृत्ति पर निर्भर करती है ।
इसे खयाल में लेना । खोजियों को इसे सतत याद रखना पड़ता है कि तुम्हें सतत हां की सुवास में रहना होता है । आस्थावान ऐसा ही होता है । वह हाँ कहता है । जब नहीं की भी आवश्यकता हो । वह कहता है - हां । वह नहीं देखता कि जीवन में कोई प्रतिरोध है । वह स्वीकार करता है । वह अपने शरीर के प्रति हां कहता है । वह मन के प्रति हां कहता है । प्रत्येक के प्रति हां कहता है । वह संपूर्ण अस्तित्व के प्रति हां कहता है । जब तुम निरपेक्ष ही कहते हो बिना किन्हीं शर्तों के । तब परम खिलावट घटित होती है । तब अचानक अहंकार गिर जाता है । वह खड़ा नहीं रह सकता । इसे नकार के सहारे चाहिए होते हैं । नकारात्मक दृष्टिकोण अहंकार निर्मित करता है । विधायक दृष्टिकोण के साथ अहंकार गिर जाता है । और तब अस्तित्व शुद्ध होता है ।
संस्कृत में 2 शब्द हैं मैं के लिए -  अहंकार और अस्मिता । इनका अनुवाद करना कठिन है । अहंकार मैं का गलत बोध है । जो नहीं कहने से चला आता है । अस्मिता सम्यक बोध है - मैं का । जो हाँ कहने से आता है । दोनों " मैं " हैं । 1 अशुद्ध है । नहीं अशुद्धता है । तुम नकारते हो । नष्ट करते हो । नहीं ध्वंसात्मक है । यह 1 बहुत सूक्ष्म विध्वंस है । इसका प्रयोग हरगिज मत करना । जितना तुमसे हो सके । इसे गिरा देना । जब कभी तुम सजग होओ । इसका उपयोग मत करना । आसपास का कोई मार्ग ढूंढने की कोशिश करो । अगर तुम्हें इसे कहना भी पड़े । तो इस ढंग से कहो कि इसकी प्रतीति हां की भांति हो । धीरे धीरे तुम्हारा तालमेल बैठ जायेगा । और हां द्वारा बहुत शुद्धता तुम्हारी ओर आती तुम अनुभव करोगे ।
फिर है - अस्मिता । अस्मिता अहकार विहीन अहं है । किसी के विरुद्ध मैं होने की अनुभूति नहीं होती । यह मात्र अनुभव करना है स्वयं का । स्वयं को किसी के विरुद्ध रखे बिना । यह तो तुम्हारे समग्र अकेलेपन को अनुभव करना है । और समग्र अकेलापन एक शुद्धतम अवस्था है । जब हम कहते हैं - मैं हूं । तो मैं अहंकार है । हूं है अस्मिता । वहां बस अनुभूति है हूं-पन की । इसके साथ कोई मैं नहीं जुड़ा । मात्र अस्तित्व को, होने को अनुभव करना । ही  सुंदर है । नहीं असुंदर है ।
असंप्रज्ञात समाधि में, सारी मानसिक क्रिया की समाप्ति होती है । और मन केवल अप्रकट संस्कारों को धारण किये रहता है ।
संप्रज्ञात समाधि है - पहला चरण । इसमें अंतर्निहित है - सम्यक तर्क । सम्यक विचारणा । आनंद की अवस्था । आनंद की झलक । और हूं-पन की अनुभूति । शुद्ध सरल अस्तित्व । जिसमें कोई अहंकार न हो । यह संप्रज्ञात समाधि की ओर ले जाता है । पहला चरण है - शुद्धता । दूसरा है - तिरोहित होना । शुद्धतम भी अशुद्ध है । क्योंकि यह है । मैं असत है । हूं भी असत है । यह मैं से बेहतर है । लेकिन उच्चतर संभावना वहां होती है । जब हूं भी तिरोहित हो जाता है । केवल अहंकार ही नहीं । लेकिन अस्मिता भी । तुम अशुद्ध हो । फिर तुम शुद्ध बन जाते हो । लेकिन यदि तुम अनुभव करने लगो - मैं शुद्ध हूं । तो शुद्धता स्वयं अशुद्धता बन चुकी होती है । उसे भी तिरोहित होना है ।
शुद्धता का तिरोहित होना असंप्रज्ञात समाधि है । अशुद्धता का तिरोहित होना संप्रज्ञात समाधि है । शुद्धता का तिरोहित होना असंप्रज्ञात है । शुद्धता का भी तिरोहित हो जाना असंप्रज्ञात समाधि है । पहली अवस्था में विचार तिरोहित हो जाते हैं । दूसरी अवस्था में विचारणा, विचार करना भी तिरोहित हो जाता है । पहली अवस्था में कांटे छंट जाते हैं । दूसरी अवस्था में फूल भी तिरोहित हो जाते हैं । जब " नहीं " मिट जाता है पहली अवस्था में । तो " हां " बना रहता है । दूसरी अवस्था में हां भी मिट जाता है । क्योंकि हां भी नहीं के साथ संबंधित है ।
तुम हां को कैसे बनाये रख सकते हो - बिना नहीं के ? वे साथ साथ हैं । तुम उन्हें अलग नहीं कर सकते । अगर नहीं तिरोहित हो जाता है । तो तुम हां कैसे कह सकते हो ? गहन तल पर हां नहीं को नहीं कह रहा है । यह निषेध है निषेध का । 1 सूक्ष्म नहीं बना रहता है । जब तुम कहते हो - हां । तो क्या कर रहे हो तुम ? तुम नहीं तो नहीं कह रहे हो । लेकिन भीतर नहीं खड़ा है । तुम इसे बाहर नहीं ला रहे । यह अप्रकट है । तुम्हारी हां कोई अर्थ नहीं रख सकती । अगर तुम्हारे भीतर कोई नहीं न हो । क्या अर्थ होगा इसका ? यह अर्थहीन होगी । हां का तो अर्थ बनता है केवल नहीं के कारण । नहीं का अर्थ बनता है हां के कारण । वे द्वैत हैं । संप्रज्ञात समाधि में नहीं गिर जाता है । वह सब जो गलत है । गिर जाता है । असंप्रज्ञात समाधि में हां गिर चुका होता है । सब जो सम्यक है । सब जो शुद्ध है । वह भी गिर जाता है । संप्रज्ञात समाधि में तुम गिरा देते हो शैतान को । असंप्रज्ञात समाधि में तुम ईश्वर को भी छोड़ देते हो । क्योंकि बिना शैतान के भगवान कैसे अस्तित्व रख सकता है ? वे 1 ही सिक्के के 2 पहलू हैं ।
सारी क्रिया समाप्त हो जाती है । हां भी 1 क्रिया है । और क्रिया 1 तनाव है । कुछ हुआ जा रहा है । यह सुंदर भी हो सकता है । किंतु फिर भी कुछ हो तो रहा है । और 1 समय के बाद सुंदर भी असुंदर हो जाता है । 1 समय के बाद तुम फूलों से भी ऊब जाते हो । कुछ समय के बाद क्रिया, बहुत सूक्ष्म और शुद्ध हो । तो भी तुम्हें 1 तनाव देती है । यह 1 चिंता बन जाती है ।
असंप्रज्ञात समाधि में सारी मानसिक क्रिया की समाप्ति होती है । और मन केवल अप्रकट संस्कारों को धारण किये रहता है । किंतु फिर भी, यही ध्येय नहीं है । क्योंकि क्या होगा उन सब प्रभावों का, विचारों का जिन्हें तुमने अतीत में इकट्ठा किया है ? अनेक अनेक जन्मों को तुमने जिया है । अभिनीत किया है । प्रतिक्रिया की है । तुमने बहुत सारी चीजें की हैं । बहुत सी नहीं की हैं । क्या होगा उनका ? चेतन मन शुद्ध हो चुका है । चेतन मन ने शुद्धता की किया को भी गिरा दिया है । किंतु अचेतन बड़ा है । और वहां तुम सारे बीजों को वहन करते हो । सारी रूपरेखाओं को । वे तुम्हारे भीतर हैं ।
वृक्ष मिट चुका है । तुम संपूर्णतया काट चुके हो वृक्ष को । पर बीज जो गिर चुके हैं । वे धरती पर पड़े हुए हैं । वे फूटेंगे । जब उनका मौसम आयेगा । तुम्हारी 1 और जिंदगी होगी । तुम फिर पैदा होओगे । निस्संदेह तुम्हारी गुणवत्ता अब भिन्न होगी । किंतु तुम फिर पैदा होओगे । क्योंकि वे बीज अब भी जले नहीं हैं ।
तुमने उसे काट दिया है । जो व्‍यक्‍त हुआ था । उस चीज को काट देना सरल है । जिसकी अभिव्यक्ति हुई हो । सारे वृक्षों को काट देना आसान होता है । तुम बगीचे में जा सकते हो । और सारे लॉन को, घास को पूरी तरह उखाड़ सकते हो । तुम हर चीज को नष्ट कर सकते हो । पर 2 सप्ताह के भीतर ही घास फिर से बढ़ जायेगी । क्योंकि तुमने केवल उसे उखाड़ा था । जो प्रकट हुआ था । जो बीज मिट्टी में पड़े हुए हैं । उन्हें तुमने अब तक छुआ नहीं है । यही करना होता है तीसरी अवस्था में ।
असंप्रज्ञात समाधि अब भी सबीज है । बीजों सहित है । और विधियां मौजूद हैं उन बीजों को जलाने की । अग्रि निर्मित करने की । वह अग्रि जिसकी चर्चा हेराक्लतु करते हैं कि अग्रि कैसे निर्मित करें ? और अचेतन बीजों को जला दें । जब वे भी मिट जाते । तब भूमि नितांत शुद्ध होती है । कुछ भी नहीं उदित हो सकता इसमें से । फिर कोई जन्म नहीं । कोई मृत्यु नहीं । तब सारा चक्र तुम्हारे लिए थम जाता है । तुम चक्र के बाहर गिर चुके होते हो । और समाज से बाहर निकल आना कारगर न होगा । जब तक कि तुम भवचक्र से ही बाहर न आ जाओ । तब तुम 1 संपूर्ण समाप्ति बनते हो ।
बुद्ध संपूर्ण रूप से अलग हुए हैं । संपूर्ण समाप्ति हैं । महावीर पतंजलि संपूर्ण समाप्ति हैं । वे व्यवस्था या समाज से बाहर नहीं हुए हैं । वे जीवन और मृत्यु के चक्कर से ही बाहर हो गये हैं । पर तभी यह घटता है । जब सारे बीज जल गये हों । अंतिम है निर्बीज समाधि - बीजरहित । असंप्रज्ञात समाधि में मानसिक क्रिया की समाप्ति होती है । और मन केवल अप्रकट संस्कारों को धारण किये रहता है ।
विदेहियो और प्रकृतिलयों को असंप्रज्ञात समाधि उपलब्ध होती है । क्योंकि अपने पिछले जन्म में उन्होने अपने शरीरों के साथ तादात्‍म्य बनाना समाप्त कर दिया था । वे फिर जन्‍म लेते हैं । क्योंकि इच्छा के बीज बने रहते हैं ।
बुद्ध भी जन्म लेते हैं । अपने पिछले जन्म में वे असंप्रज्ञात समाधि को उपलब्ध हो चुके थे । लेकिन बीज मौजूद थे । उन्हें 1 बार और आना ही था । महावीर भी जन्म लेते हैं । बीज उन्हें ले आते हैं । लेकिन यह अंतिम जन्म ही होता है । असंप्रज्ञात समाधि के पश्चात केवल 1 जीवन संभव है । लेकिन तब जीवन की गुणवत्ता संपूर्णतया भिन्न होगी । क्योंकि यह व्यक्ति देह के साथ तादात्थ नहीं बनायेगा । और इस व्यक्ति को वस्तुत: कुछ करना नहीं होता । क्योंकि मन की क्रिया समाप्त हो चुकी है । तो क्या करेगा वह ? इस जिंदगी की ही जरूरत किसलिए है ? उसे तो बस उन बीजों को व्‍यक्‍त होने देना है । और वह साक्षी बना रहेगा । यही है - अग्रि ।
1 व्यक्ति आया । और बुद्ध पर थूक दिया । वह क्रोध में था । बुद्ध ने अपना चेहरा पोंछा । और पूछा - तुम्हें और क्या कहना है ?' वह आदमी नहीं समझ सका । वह सचमुच क्रोध में था । लाल पीला हुआ जा रहा था । वह तो समझ ही न सका कि बुद्ध क्या कह रहे थे । और सारी बात ही इतनी बेतुकी थी । क्योंकि बुद्ध ने प्रतिक्रिया नहीं की थी । वह आदमी बिलकुल असमंजस में पड़ गया कि क्या करे । क्या कहे । वह चला गया । सारी रात वह सो नहीं सका । कैसे सो सकते हो तुम । जब किसी का अपमान कर दो । और प्रतिक्रिया ही न मिले ? तब तुम्हारा अपमान तुम्हारे पास वापस चला आता है । तुमने तीर फेंक दिया है । पर इसे प्रवेश नहीं मिला है । यह वापस आ जाता है । कोई आश्रय न पा यह वापस स्रोत तक लौट आता है । उसने बुद्ध का अपमान किया । किंतु अपमान वहां कोई आश्रय न पा सकता था । तो यह कहां जायेगा ? यह वास्तविक मालिक तक आ पहुंचता है ।
सारी रात वह व्यग्रता से बेचैन रहा था । वह विश्वास नहीं कर सकता था  उस पर । जो घटित हुआ । और फिर उसने पछताना शुरू कर दिया । यह अनुभव करना कि वह गलत था कि उसने अच्छा नहीं किया । अगली सुबह बहुत जल्दी वह गया । और उसने क्षमा मांगी । बुद्ध बोले - इसके लिए चिंता मत करो । अतीत में जरूर मैंने तुम्हारे साथ कुछ बुरा किया है । अब हिसाब पूरा हो गया है । और मैं प्रतिक्रिया करने वाला नहीं । वरना यही बारबार होता रहेगा । खत्म हुई बात । मैं प्रतिक्रियात्मक नहीं हुआ । क्योंकि यह बीज कहीं था । इसे समाप्त होना ही था । अब मेरा हिसाब तुम्हारे साथ समाप्त हुआ ।
इस जीवन में कोई विदेह - जो जान लेता है कि वह देह नहीं है । जो असंप्रज्ञात समाधि को उपलब्ध हो चुका है । संसार में आता है मात्र हिसाब किताब बंद करने को ही । उसका सारा जीवन समाप्त हो रहे हिसाबों से बना होता है । लाखों जन्म । ढेरों संबंध । बहुत सारे उलझाव और वादे हर चीज को समाप्त हो जाने देना है ।
ऐसा घटित हुआ कि बुद्ध 1 गांव में आये । सारा गांव एकत्रित हुआ । वे उत्सुक थे उन्हें सुनने को । यह 1 दुर्लभ अवसर था । राजधानियां भी सतत बुद्ध को आमंत्रित करती रहती थीं । और वे नहीं पहुंचते थे । किंतु वे इस गांव में आये । जो जरा मार्ग से हटकर था । और बिना किसी निमंत्रण के आये । क्योंकि ग्रामबासी कभी साहस न जुटा सकते थे । उनके पास जाने और उन्हें गांव में आने के लिए कहने का । यह थोड़ी सी झोपड़ियों वाला 1 छोटा सा गांव था । और बुद्ध बगैर किसी निमंत्रण के ही आ गये थे । सारा गांव उत्तेजना से प्रज्वलित था । और वे वृक्ष के नीचे बैठे हुए थे । और बोल नहीं रहे थे ।
कुछ लोग कहने लगे - आप अब किसके लिए प्रतीक्षा कर रहे हैं ? सब लोग है यहां । सारा गांव यहां है । आप आरंभ करें । बुद्ध बोले - पर मुझे प्रतीक्षा करनी है । क्योंकि मैं किसी के लिए यहां आया हूं । जो यहां नहीं है । 1 वचन पूरा करना है । 1 हिसाब पूरा करना है । मैं उसी के लिए प्रतीक्षा कर रहा हूं । फिर 1 युवती आयी । तो बुद्ध ने प्रवचन आरंभ किया । उनके बोलने के बाद लोग पूछने लगे - क्या आप इसी युवती की प्रतीक्षा कर रहे थे ? यह युवती तो अछूत है । सबसे नीच जाति की । कोई सोच तक न सकता था कि बुद्ध उसकी प्रतीक्षा कर सकते थे । वे बोले - हां, मैं उसकी प्रतीक्षा कर रहा था । जब मैं आ रहा था । वह मुझे राह में मिली । और वह बोली - जरा प्रतीक्षा कीजिएगा । मैं दूसरे शहर किसी काम से जा रही हूं । पर मैं जल्दी आऊंगी । और पिछले जन्मों में कहीं मैंने उसे वचन दिया था कि जब मैं संबोधि को उपलब्ध हो जाऊं । तो मैं आऊंगा । और जो कुछ मुझे घटा । उस बारे में उसे बताऊंगा । वह हिसाब पूरा करना ही था । वह वचन मुझ पर लटक रहा था । और यदि मैं इसे पूरा नहीं कर सकता । तो मुझे फिर आना होता ।
विदेह या प्रकृतिलय - दोनों शब्द सुंदर हैं ।  विदेह का अर्थ है वह । जो देह विहीनता में जीता है । जब तुम असंप्रज्ञात समाधि को उपलब्ध होते हो । तो देह तो होती है । लेकिन तुम देह शून्य होते हो । तुम अब देह नहीं रहे । देह निवास स्थान बन जाती है । तुमने तादात्‍म्य नहीं बनाया । ये 2 शब्द सुंदर हैं - विदेह और प्रकृति लय । विदेह का अर्थ है - वह जो जानता है कि वह देह नहीं है । ध्यान रहे । जो जानता है । विश्वास ही नहीं करता है । प्रकृति लय  वह है । जो जानता है कि वह शरीर नहीं है । अब वह प्रकृति नहीं रहा ।
देह भौतिक से संबंध रखती है । 1 बार तुम्हारा पदार्थ के साथ, बाह्य के साथ तादात्‍म्य टूट जाता है । तो तुम्हारा प्रकृति से संबंध विसर्जित हो जाता है । वह व्यक्ति जो इस अवस्था को उपलब्ध हो जाता है । जहां वह अब देह नहीं रहता । जो उस अवस्था को प्राप्त करता है । जिसमें अब वह अभिव्‍यक्‍त न रहा । प्रकृति न रहा । तब उसका प्रकृति से नाता समाप्त हो जाता है । उसके लिए अब कोई संसार नहीं । उसका अब कोई तादात्‍म्य नहीं है । वह इसका साक्षी बन गया है । ऐसा व्यक्ति भी कम से कम 1 बार पुनर्जन्म लेता है । क्योंकि उसे बहुत सारे हिसाब समाप्त करने होते हैं । बहुत वचन पूरे करने हैं । बहुत सारे कर्म गिरा देने हैं ।
ऐसा हुआ कि बुद्ध का चचेरा भाई देवदत्त उनके विरुद्ध था । उसने उन्हें मारने का बहुत तरीकों से प्रयत्न किया । बुद्ध ध्यान करते 1 वृक्ष के नीचे रुके थे । उसने पहाड़ से 1 विशाल चट्टान नीचे लुड़का दी । चट्टान चली आ रही थी । हर कोई भाग खड़ा हुआ । बुद्ध वहीं बने रहे वृक्ष के नीचे बैठे हुए । यह खतरनाक था । और वह चट्टान आयी उन तक । बस छूकर निकल गयी । आनंद ने उनसे पूछा - आप भी क्यों नहीं भागे । जब हम सब भाग खड़े हुए थे ? काफी समय था ।
बुद्ध बोले - तुम्हारे लिए काफी समय है । मेरा समय समाप्त है । और देवदत्त को यह करना ही था । पिछले किसी समय का, किसी जीवन का कोई कर्म था । मैंने उसे दी होगी कोई पीड़ा । कोई व्यथा, कोई चिंता । इसे पूरा होना ही था । यदि मैं बच निकलूं । यदि मैं कुछ करूं । तो फिर 1 नया जीवन अनुक्रम शुरू हो जाये ।

एक टिप्पणी भेजें