17 जून 2011

कालदूत नारायण दास की कहानी

कबीर साहब बोले - हे धर्मदास ! सुनो । मैंने तुम्हारे सामने सत्य का भेद प्रकाशित किया है । और तुम्हारे सभी काल जाल को मिटा दिया है । अब रहनी गहनी की बात सुनो । जिसको जाने बिना मनुष्य यूँ ही भूलकर सदा भटकता रहता है । सदा मन लगाकर भक्ति साधना करो । और मान प्रसंशा को त्यागकर सच्चे सन्तों की सेवा करो । पहले जाति वर्ण और कुल की मर्यादा नष्ट करो । ( अभिमान मत करो । और ये मत मानों कि " मैं " ये हूँ । या वो हूँ । ये 84 में फ़ँसने का सबसे बङा कारण होता है ।
तथा दूसरे अन्य मत पत्थर ( मूर्ति ) पानी ( गंगा यमुना कुम्भ आदि ) देवी देवता की पूजा छोङकर निष्काम गुरु की भक्ति करो ।
जो जीव गुरु से कपट चतुराई करता है । वह जीव संसार में भटकता भरमता है । इसलिये गुरु से कभी कपट परदा नहीं रखना चाहिये । गुरु से कपट मित्र की चोरी । के होय अँधा के होय कोङी । जो गुरु से भेद कपट रखता है । उसका उद्धार नहीं होता । वह 84 में ही रहता है ।

हे धर्मदास ! सुनो । केवल 1 सत्यपुरुष के सत्यनाम की आशा और विश्वास करो । इस संसार का बहुत बङा जंजाल है । इसी में छिपा हुआ काल निरंजन अपनी फ़ाँस ( फ़ँदा ) लगाये हुये है । जिससे कि जीव उसमें फ़ँसते रहें । परिवार के सब नर नारी मिलकर यदि सत्यनाम का सुमरन करें । तो भयंकर काल कुछ नहीं बिगाङ सकता ।
हे धर्मदास ! तुम्हारे घर जितने जीव हैं । उन सबको बुलाओ । सब ( हँस ) नाम दीक्षा लें । फ़िर तुम अन्यायी और क्रूर काल निरंजन से सदा सुरक्षित रहोगे ।
तब धर्मदास बोले - हे प्रभु ! आप जीवों के मूल ( आधार ) हो । आपने मेरा समस्त अग्यान मिटा दिया । मेरा एक पुत्र नारायण दास है । आप उसे भी उपदेश करें ।
यह सुनकर कबीर साहब मुस्करा दिये । पर अपने अन्दर के भावों को प्रकट नहीं किया । और बोले - हे धर्मदास ! जिसको तुम शुद्ध अंतकरण वाला समझते हो । उनको तुरन्त बुलाओ ।
तब धर्मदास ने सबको बुलाया । और बोले - हे भाई ! ये समर्थ सदगुरुदेव स्वामी हैं । इनके श्रीचरणों में गिरकर समर्पित हो जाओ । जिससे कि 84 से मुक्त होओ । और संसार में फ़िर से न जन्मों ।
इतना सुनते ही सभी जीव आये । और कबीर साहब के चरणों में दंडवत प्रणाम कर समर्पित हो गये । परन्तु नारायण दास नहीं आया ।

तब धर्मदास सोचने लगे कि नारायण दास तो बहुत चतुर है । फ़िर वह क्यों नहीं आया ?
धर्मदास ने अपने सेवक से कहा - मेरे उस पुत्र ने गुरु रूपदास पर विश्वास किया है । और उसकी शिक्षा अनुसार वह जिस स्थान पर श्रीमदभगवद गीता पढता रहता है । वहाँ जाकर उससे कहो । तुम्हारे पिता ने समर्थ गुरु पाया है ।
तब सेवक धर्मदास के पास जाकर बोला - हे नारायण दास ! तुम शीघ्र चलो । आपके पिता के पास समर्थ गुरु कबीर साहब आये हैं । उनसे उपदेश लो ।
यह सुनकर नारायण दास बोला - मैं पिता के पास नहीं जाऊँगा । वे बूढे हो गये हैं । और उनकी बुद्धि का नाश हो गया है । विष्णु के समान और कौन है ? हम जिसको जपें । मेरे पिता बूढे हो गये हैं । और उनको जुलाहा गुरु भा गया है । मेरे मन को तो विठ्ठलेश्वर गुरु ही पाया है । अब और क्या कहूँ । मेरे पिता तो बस पागल ही हो गये हैं ।
उस संदेशी ने यह सब बात धर्मदास को आकर बतायी । तब धर्मदास स्वयँ अपने पुत्र नारायण दास के पास पहुँचे । और बोले - हे पुत्र नारायण दास ! अपने घर चलो । वहाँ सदगुरु कबीर साहब आये हुये हैं । उनके श्री चरणों में माथा टेको । और अपने सब कर्म बँधनो को कटाओ । जल्दी करो । ऐसा अवसर फ़िर नहीं मिलेगा । हठ छोङो । बन्दीछोङ गुरु बारबार नहीं मिलते ।
तब नारायण दास बोला- हे पिताजी ! लगता है । आप पगला गये हो । इसलिये तीसरेपन की अवस्था में जिंदा गुरु पाया है ।
अरे ! जिसका नाम राम है । उसके समान और कोई देवता नहीं है । जिसकी ऋषि मुनि आदि सभी पूजा करते हैं । आपने गुरु विठ्ठलेश्वर का प्रेम छोङकर अब बुढापे में वह जिन्दा गुरु किया है ।
तब धर्मदास ने नारायण को बाँह पकङकर उठा लिया । और कबीर साहब के सामने ले आये । और बोले - इनके चरण पकङो । ये यम के फ़ँदे से छुङाने वाले हैं ।
तब नारायण दास मुँह फ़ेरकर कटु शब्दों में बोला - यह कहाँ हमारे घर में मलेच्छ ने प्रवेश किया है । कहाँ से यह जिन्दा ठग आया । जिसने मेरे पिता को पागल कर दिया । वेद शास्त्र को इसने उठाकर रख दिया । और अपनी महिमा बनाकर कहता है । यदि यह जिन्दा आपके पास रहेगा । तो मैंने आपके घर आने की आशा छोङ दी है ।
नारायण दास की यह बात सुनते ही धर्मदास परेशान हो गये । और बोले - मेरा यह पुत्र जाने क्या मत ठाने हुये है । फ़िर माता आमिन ने भी नारायण को बहुत समझाया । परन्तु नारायण दास के मन में उनकी एक भी बात सही न लगी । ( और वह बाहर चला गया )
तब धर्मदास कबीर साहब से विनती करते हुये बोले - हे साहिब ! मुझे वह कारण बताओ । जिससे मेरा पुत्र इस प्रकार आपको कटु वचन कहता है । और दुर्बुद्धि को प्राप्त होकर भटका हुआ है ।
कबीर साहब बोले - हे धर्मदास ! मैंने तो तुम्हें नारायण दास के बारे में पहले ही बता दिया था । पर तुम उसे भूल गये हो । अतः फ़िर से सुनो । जब मैं सत्यपुरुष की आग्या से जीवों को चेताने मृत्युलोक की तरफ़ आया । तब काल निरंजन ने मुझे देखकर विकराल रूप बनाया ।

और बोला - सत्यपुरुष की सेवा के बदले मैंने यह झांझरी दीप प्राप्त किया है । हे ग्यानी ! तुम भवसागर में कैसे ( क्यों ) आये । मैं तुमसे सत्य कहता हूँ । मैं तुम्हें मार दूँगा । तुम मेरा यह रहस्य नहीं जानते ।
तब कबीर साहब ने कहा - हे अन्यायी निरंजन सुन । मैं तुझसे नहीं डरता । जो तुम अहंकार की वाणी बोलते हो । मैं इसी क्षण तुम्हें मार डालूँगा ।
तब काल निरंजन सहम गया । और विनती करता हुआ बोला - हे ग्यानी जी ! आप संसार में जाओगे । बहुत से जीवों का उद्धार कर मुक्त करोगे । तो मेरी भूख कैसे मिटेगी ? जब जीव नहीं होंगे । तब मैं क्या खाऊँगा । मैंने 1 लाख जीव रात दिन खाये । और सवा लाख उत्पन्न किये । मेरी सेवा से सत्यपुरुष ने मुझको तीन लोक का राज्य दिया । आप संसार में जाकर जीवों को चेताओगे । उसके लिये मैंने ऐसा इंतजाम किया है । मैं धर्म कर्म का ऐसा मायाजाल फ़ैलाऊँगा कि आपका सत्य उपदेश कोई नहीं मानेगा ।
मैं घर घर में अग्यान भृम का भूत उत्पन्न करूँगा । तथा धोखा दे देकर जीवों को भृम में डालूँगा । तब सभी मनुष्य शराब पीयेंगे । माँस खायेंगे । इसलिये कोई आपकी बात नहीं मानेगा । और आपका संसार में जाना बेकार है ।
तब मैंने कहा - काल निरंजन मैं तेरा छल बल सब जानता हूँ । मैं सत्यनाम से तेरे द्वारा फ़ैलाये गये सब भृम मिटा दूँगा । और तेरा धोखा सबको बताऊँगा ।
तब काल निरंजन घबरा गया । और बोला - मैं जीवों को अधिक से अधिक भरमाने के लिये 12 पँथ चलाऊँगा । और आपका नाम लेकर अपना धोखे का पँथ चलाऊँगा । मृतु अँधा मेरा अंश है । वह धर्मदास के घर जन्म लेगा । पहले मेरा कालदूत धर्मदास के घर जन्म लेगा । पीछे से आपका अंश जन्म लेगा । हे भाई ! मेरी इतनी विनती तो मान ही लो ।
हे धर्मदास ! तब मैंने निरंजन को कहा । सुनो निरंजन । तुमने इस प्रकार कहकर जीवों के उद्धार कार्य में विघ्न डाल दिया है । फ़िर भी मैंने तुमको वचन दिया ।
इसलिये हे धर्मदास ! अब वह मृतु अँधा नाम का कालदूत तुम्हारा पुत्र बनकर आया है । और अपना नाम नारायण दास रखवाया है । यह नारायण तो काल निरंजन का अंश है । जो जीवों के उद्धार में विघ्न का कार्य करेगा । यह मेरा नाम लेकर पँथ को प्रकट करेगा । और जीव को धोखे में डालेगा । और नरक में डलवायेगा । जैसे शिकारी नाद को बजाकर हिरन को अपने वश में कर लेता है । और पकङकर उसे मार डालता है । वैसे ही शिकारी की भांति यम काल अपना जाल लगाता है । और इस चाल को हँस जीव ही समझ पायेगा ।
तब कालदूत नारायण दास की चाल समझ में आते ही धर्मदास ने उसे त्याग दिया । और कबीर के चरणों में गिर पङे ।
एक टिप्पणी भेजें