05 मार्च 2011

वेदव्यास से आज तक किसी भी इंसान ने सत्य को नहीं जाना ??


किसी को टिप्पणी देना अलग बात है । और अध्ययन करना अलग । ये रटी रटाई फ़ालतू बुक्स को प्रवचन देने से किसी का उद्धार नहीं होता । वेदव्यास से आज तक किसी भी इंसान ने सत्य को नहीं जाना ?? और तुम चले एक घन्टे में सत्य बताने ? एक प्रश्न पूछता हूँ । बताओ । आज मैं कब उठा था ? और कब सोने वाला हूँ । उत्तर ई मेल करके देना । vikasa15@rediff.com

kisi ko tippani dena alag baat hai aur addhyan karna alag .ye rati ratai faltu books ko pravachan dene se kisi ka uddhar nahin hota . ved vyas se aaj tak kisi bhi insaan ne satya ko nahin jana . aur tum chale 1 ghante main satya batane . ek prashna poochta hoon . batao aaj main kab utha tha . aur kab sone wala hoon ? uttar email karke dena . vikasa15@rediff.com
** किन्ही ग्यानीजन की ये टिप्पणी " ये जीव कालमाया का कैदी है " पर आयी है । इन्होंने एक प्रश्न भी पूछा है । लेकिन ये टिप्पणी का सही अर्थ ही मैं अग्यानी नहीं समझ सका । तो इनके प्रश्न का उत्तर क्या दूँगा ?
खैर..इसी मुद्दे पर चर्चा । पर कुछ समय बाद । अभी थोङी व्यस्तता है ।
एक टिप्पणी भेजें