03 सितंबर 2010

कुछ गूढ रहस्य की बातें...? 2



तब श्री महाराज जी ने बताया । कोस कोस पर बदले पानी । चार कोस पर वानी । यानी सन 01 से पहले भाषा कुछ और थी । ईसा नाम के जो ग्यानी हुये । उन्होने ईसवी की शुरूआत की । अब जैसा कि महाराज
जी ने बताया । जो मैंने पिछले लेख में लिखा है । कि कलियुग को अभी 5000 और कुछ सैकडा वर्ष ही हुये है । जिनमें 2010 तक का विधिवत लेखा जोखा लगभग मौजूद है । ईसा पूर्व से भी लगभग 1000 वर्ष तक का अस्पष्ट इतिहास और जानकारी मिल ही जाती है । फ़िर भी थोडी देर को इसे 2010 तक का ही मान लेते है । और अभी कलियुग को 5500 का हुआ मान लेते हैं ।
यानी लगभग 3500 वर्ष पूर्व द्वापर युग का अंत समय था । मैं हमेशा की तरह कभी ये दबाब नहीं देता । कि आप इन आंकडो को । इस तय की गयी समयावधि को ही पूरी तरह सत्य मान लें । पर जैसा कि शास्त्रो में युगों की आयु लाखों वर्ष की बतायी गयी है । और इस समय अन्तराल को ध्यान करते ही किसी भी शोध के बारे में सोचने पर हमारे छक्के ही छूट जाते हैं । और हम हतोत्साहित होकर इस झमेले को बैग्यानिको के लिये छोडकर इस पर कोई विचार ही नहीं करते । उस दृष्टि से किसी संत के द्वारा बताया हुआ युग आयु का ये रहस्य हमें नये सिरे से सोचने पर विवश करता है । और तभी मैंने कहा । कि हम इस बात को मानें । ये उतना जरूरी नही है । पर कोई धार्मिक शोधार्थी । कोई ज्योतिष गणना करने वाला । युगों के बैग्यानिक तथ्य खोजने वाला एक नये सिरे से अवश्य सोच सकता है ।
जब भी दो युग मिलते हैं । यानी एक का आना और दूसरे का जाना । तब इस कालखन्ड में कुछ ऐसा घटित होता है कि पुरानी सभ्यता नष्ट हो जाती है । और उसके चिह्न मात्र शेष रह जाते हैं । फ़िर इन्हीं चिह्नों के आधार पर धीरे धीरे प्राचीन अर्वाचीन का मिलाप होता है । और एक बार फ़िर सभ्यता का इतिहास लिखा जाता है । खैर । इस समय मैं श्री महाराज जी से प्राप्त रहस्यों के बारे में बता रहा हूं । जब मैं युगों के बारे में चर्चा कर रहा था । तब महाराज जी ने कहा । युगों के बारे में एक दूसरा सत्य ये भी है कि ग्यान दृष्टि से एक ही समय में चारों युग साथ साथ चलते हैं । घोर कलियुग में भी एक व्यक्ति अपने स्वभाव और विचारों से सतयुग में जीता है । सतयुग जैसा आचरण करता है । घोर कलियुग में भी कोई पहुंचा हुआ संत किसी स्थान या गांव आदि को सतयुग के समान बना देता है । ऐसे सैकडों गांव और स्थान मेरे अनुभव में भी आये हैं । जो कलियुग के प्रभाव से अछूते हैं । पहाडी क्षेत्रों और मैदानी क्षेत्रों की सभ्यता मे अभी भी जमीन आसमान का अंतर है ।
इसके कुछ ही समय बाद महाराज जी ने दस मिनट आंखे बन्द करते हुये लगभग ध्यान की अवस्था से बाहर आते हुये कहा । ये आश्चर्य है कि सतयुग आने के लक्षण दिखाई दे रहे हैं । ये मेरे लिये विस्फ़ोट होने जैसा था । क्योंकि यदि कलियुग को अभी लगभग 5500 वर्ष ही हुये हैं । तो स्वयं महाराज जी के अनुसार ही अभी कलियुग की आयु 22500 वर्ष शेष है । इसका वास्तविक रहस्य मैंने कई बार पूछने की कोशिश की । जिसको महाराज जी ने कहा । अभी इसके उत्तर का उचित समय नहीं हैं । ये फ़िर कभी बतायेंगे । इसके बाद महाराज जी ने 0 शून्य सत्ता और इसमें 1 यानी परमात्मा को जोडने का रहस्य बताया । मतलब 0 एक बार लिखा हो या करोडों बार उसका मान यानी value 0 शून्य ही रहता है । लेकिन इसी 0 में 1 यानी एक परमात्मा को जोडते ही जितने भी 0 हों उनकी value उतनी ही बड जाती है । मान लीजिये । एक लाख की संख्या दर्शाने वाले 0 अंक लिखे थे । पर वह सब 0 ही थे । यानी उनकी कोई value नहीं थी । लेकिन इसमें 1 जोडते ही value हो गयी । उम्मीद से ज्यादा हो गयी । इसके बाद महाराज जी ने दूध और घी के उदाहरण से जीव ( दूध ) और घी ( परमात्मा ) से बडा रोचक तरीका बताया । इसके बाद सूर्य का उदाहरण आत्मा से देते हुये बताया कि आत्मा किस तरह हर समय निर्लिप्त होता है । इसके बाद कुछ लोग आ गये । और चर्चा स्वाभाविक ही अन्य बातों पर मुड गयी । एक जिग्यासु द्वारा ये पूछ्ने पर । परमात्मा क्यों नहीं मिलता ?
महाराज जी ने कहा । कहीं वस्तु रखी । कहीं खोजो । तो वस्तु न आवे हाथ । वस्तु तभी पाईये । जब भेदी होवे साथ । अर्थात परमात्मा को जानने वाले संत ही परमात्म प्राप्ति करा सकते हैं । और किसी में ये सामर्थ्य नहीं होती । दूसरे जिग्यासु द्वारा पूछने पर कि महाराज जी । हम बहुत पूजा करते हैं । पर कोई लाभ नहीं होता । महाराज जी ने कहा । आप डाक्टर डाक्टर ( भगवान भगवान ) करते हैं । दवा ( पूजा का सही तरीका ) नहीं खाते । इसलिये कोई लाभ नही होता ।
एक और जिग्यासु ने कहा । महाराज जी । बहुत दुख में रहता हूं । शान्ति भी नहीं है । महाराज जी ने कहा । संसार की वस्तुओं को अपना मान लेने से ही समस्त दुख होता है । मानों तो भी । न मानों तो भी । ये वस्तुये तुम्हारी सदा के लिये नहीं होंगी । बस इसी बात का दुख है । इसके बाद समय मिलने पर महाराज जी ने आदि सृष्टि का रहस्य बताया । समाप्त ।
विशेष -- ये सभी रहस्य मैंने एक स्थान पर धार्मिक ज्योतिष और इतिहास के शोधार्थियों हेतु लिखे हैं । इन पर विस्त्रत चर्चा मेरे ब्लाग्स में शीघ्र पढने को मिलेगी ।
एक टिप्पणी भेजें